शनिवार, 10 अक्तूबर 2009

बेज़ार मैं रोती रही, वो बे-इन्तेहाँ हँसता रहा.



बेज़ार मैं रोती रही, वो बे-इन्तेहाँ हँसता रहा.
वक़्त का हर एक कदम, राहे ज़ुल्म पर बढ़ता रहा.
ये सोच के कि आँच से प्यार की पिघलेगा कभी,
मैं मोमदिल कहती रही, वो पत्थर बना ठगता रहा.
उसको खबर नहीं थी कि मैं बेखबर नहीं,
मैं अमृत समझ पीती रही, वो जब भी ज़हर देता रहा.
मैं बारहा कहती रही, ए सब्र मेरे सब्र कर,
वो बारहा इस सब्र कि, हद नयी गढ़ता रहा.
था कहाँ आसाँ यूँ रखना, कायम वजूद परदेस में,
पानी मुझे गंगा का लेकिन, हिम्मत बहुत देता रहा.
बन्ध कितने ढंग के, लगवा दिए उसने मगर,
'मशाल' तेरा प्रेम मुझको, हौसला देता रहा.
दीपक 'मशाल'

10 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत रचना..भावों और विचारों का सुंदर वर्णन कविता के माध्यम से..बधाई दीपक जी..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही गहरी और दिल को छु लेने वाली कविता, दर्द से निकली हुयी लगती है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेजार मैं रोती रही ...वो बेइन्तहा हँसता रहा ..
    मगर प्रेम हौसला देता रहा ...बहुत खूब ...
    भावों का अच्छा चित्रण ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. main barha kehti rahi, aye sabra mere sabra kar,
    wo barha is sabra ki, had nahi gadhta raha...

    bahut achha likha aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  5. था कहाँ आसान यूँ रखना कायम वजूद परदेस में
    पानी लेकिन गंगा का मुझे बहुत हिम्मत देता रहा
    क्या बात कह दी....हम भी तो यही झेलते हैं और रगों में बहती गंगा से हिम्मत लेते रहते हैं...बहुत सुन्दर लिखते हो..
    दी ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर...दिल से निकली हुई रचना ...


    लगता है कि आपके ब्लॉग पर लगातार आना होगा

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...