रविवार, 13 दिसंबर 2009

खंडहर की ईंट

खंडहर की ईंट
कुछ कहती हुई सी लगती है,
उसी पुराने खंडहर की
जिसे ऐतिहासिक स्थल कहते हैं...
और देखते हैं रोज़
हज़ारों देशी और विदेशी पर्यटक...
हर किसी से
सूनी आँखों से
कुछ कहती हुई सी लगती है...
वो चाहती है बताना
क्या है असली इतिहास
जिसमे जोड़ी गयी है
कुछ झूठी कहानी भी...
उस कहानी को छोड़कर,
क्या है हकीकत
और क्या है फ़साना...
है हर पल की
सच्ची गवाह
वह ईंट
जो झूठी नहीं है..
अलग-अलग इतिहासों की तरह....
दीपक 'मशाल'

16 टिप्‍पणियां:

  1. धन्य हैं आप जो ईंट से भी सच - झूंठ
    का मसाला निकाल लेते हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया....आपने सही कहा इतिहास के पन्नों में कई सच्ची-झूठी कहानियाँ दफ्न होती हैँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत गहरी रचना..


    भारत यात्रा में ऐसी रचनाएँ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. bheetar ki pragya ko prakat karti gahantam kavita ka anubhav ho raha hai is rachnaa ko baanch kar....

    waah !
    waah !

    badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐतिहासिक धरोहरों की हालत बयां कर दी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  6. इतिहास के पन्नों का यथार्थ आपके शब्दों में बहुत कुछ कह गया है........

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या है असली इतिहास
    जिसमे जोड़ी गयी है
    कुछ झूठी कहानी भी...
    उस कहानी को छोड़कर,
    क्या है हकीकत
    और क्या है फ़साना...
    है हर पल की
    सच्ची गवाह
    वह ईंट
    जो झूठी नहीं है..
    अलग-अलग इतिहासों की तरह....
    बहुत सही कहा वाकई इतिहास मैं बहुत कुछ झूठा सच्चा है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहरी रचना।
    भारत यात्रा कैसी रही, ये भी लिखें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी बात कही है दीपक , मै तो पुरातत्ववेत्ता हूँ तुम्हारी बात का पुरज़ोर समर्थन करता हूँ ..काश ऐतिहासिक धरोहरों के प्रति सही नज़रिया हो जाये हम लोगों का । और क्या चल रहा है ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहरी रचना।
    भारत यात्रा कैसी रही, ये भी लिखें।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...