शनिवार, 16 जुलाई 2011

इस बार का भारत प्रवास--------------->>> दीपक मशाल

इस बार जब भारत आया तो यू.के. से वहाँ पहुँचने के दो दिन के अन्दर बचपन में भूगोल की कक्षा में पढाये गए सारे यातायात के महत्वपूर्ण साधन प्रयोग कर डाले.. जल मार्ग, वायु मार्ग से लेकर थल मार्ग तक और थल मार्ग में भी रेल मार्ग एवं सड़क मार्ग.. इनके भी विस्तार में जाएँ तो ट्रेन, मेट्रो, बस, कार, जीप, ऑटो-रिक्शा, रिक्शा, मोटरबाइक, साइकल सभी. 
इधर बहुत सारे नए तजुर्बों से मुलाक़ात हुई जो अब बेताब हो रहे हैं किस्से-कहानियों, संस्मरण तो कुछ कविता के रूप में कागज़ पर उतरने को. कई हिन्दी-साहित्य, ब्लॉग के महत्वपूर्ण हस्ताक्षरों से मुलाक़ात तो हुई ही साथ ही मुलाक़ात हुई अपने जीवनसाथी से और चट मंगनी पट ब्याह भी हो गया. हालांकि इस दौरान कुछ दुखद घटनाओं ने रास्ता रोकने की कोशिश भी की और यही वजह रही कि अधिकाँश दोस्तों से ना दुःख बांटा और ना ही खुशी. प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से आप सभी की दुआएं मिलती रहीं.. कह सकते हैं कि इस सब के बावजूद ब्लॉग की दुनिया से अलग नहीं रहा क्योंकि घर में ही एक ब्लॉगर मौजूद हैं... जी हाँ ब्लॉगर श्री संजय कुमार चौरसिया जी जो कि रिश्ते में मेरे बहनोई भी हैं, हर सुख-दुःख में मेरे कन्धे से कन्धा मिलाते हुए मेरे साथ ही रहे.
इसके अलावा विश्व भर की नामी-गिरामी हिन्दी-साहित्यिक, गैरसाहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से अपनी रचनाओं को प्रसारित करने के द्वार खुले साथ ही यह सबक भी मिला कि ''जो छप गया वह जरूरी नहीं कि अच्छा ही हो और जो नहीं छपा वह भी जरूरी नहीं कि बुरा हो..'' 
कहने को आया तो था सिर्फ १५ दिन के लिए लेकिन अचानक जो कुछ हुआ उसकी वजह से ४० दिन रुकना हो गया और गर्मी से बरसात तक का लम्बा प्रवास हो गया.
प्रवास के दौरान करीब ८-९ दिन घर पर यानी कोंच-उरई में, २ दिन आगरा में, २५ दिन लखनऊ और ३ दिन दिल्ली में रहना हुआ. भारत में जहाँ एक ओर लखनऊ के बेहतरीन ब्लोगर्स और लेखक-पत्रकारों से मिलना हुआ वहीं 'खाकी में इंसान' के लेखक श्री अशोक कुमार जी का लखनऊ आकर मिलना सुखद रहा. उरई में डॉ.कुमारेन्द्र चाचा जी और डॉ.आदित्य जी से पुनर्मिलन हुआ.. फिर सिद्धार्थ नगर जाकर श्री पंकज सुबीर जी, राहत इन्दौरी साहब, गौतम राजरिशी भाई, प्रकाश 'अर्श', रविकांत, वीनस केसरी, कंचन सिंह चौहान, अंकित 'सफ़र', विजित से मुलाक़ात की शाम हो चाहे गिरिजेश राव जी से मिलना रहा हो या फिर दिल्ली में दर्पण साह 'दर्शन' और शीबा असलम फ़हमी से संक्षिप्त मुलाक़ात सभी एक अविस्मरनीय घटना के रूप में दिलोदिमाग में सुरक्षित हो गए. 
वापस आते हुए १ दिन-रात लन्दन में रुका जहाँ एक लम्बा समय श्री समीर लाल जी के साथ गुजारने का मौक़ा मिला, ब्लॉग और हिन्दी-साहित्य दोनों में समान दखल रखने वाले समीर जी को और भी करीब से जानने का मौक़ा मिला. हिन्दी-साहित्य की दैदीप्यमान नक्षत्र आदरणीया कविता वाचक्नवी जी का प्रेमपूर्ण सानिध्य रहा और एक बार फिर शिखा दी के आतिथ्य सुख को भोगने का मौक़ा भी मिला. 
दीपक मशाल

36 टिप्‍पणियां:

  1. चाट मंगनी पट ब्याह भी हो गया .
    भैया ये एन आर आई लोगों के साथ ऐसा ही होता है .
    बधाई हो और आशीर्वाद स्वीकार करें .

    इतने लोगों से मिलना निसंदेह एक सुखद अहसास रहा होगा .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यात्र तो बड़ी ही उच्चस्तरीय रही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यात्रा के दौरान जाने-माने ब्लोगर्स और लेखक-पत्रकारों से आमने सामने मिलना सच में एक अविस्मरनीय घटना तो होगी ही जिसका दिलोदिमाग में सुरक्षित रहना लाजमी है... आपके इस सुन्दर यात्रा वृतांत में हमें में शामिल होना बहुत अच्छा लगा....सुन्दर प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. विकिलीक्स? नहीं, मसि-कागद-लीक्स!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ये यात्रा तो बहुत बढिया रही मगर दिल्ली मे हम से नही मिले वापसी मे………ये शिकायत तो रहेगी…………शादी की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मांगलिक जीवन की शुरुआत के लिए बहुत-बहुत बधाई...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. shadi ki bahut bahut badhai.....jaisa ki aapne sara vritant likha to yaatra kafi achhi rahi aapki sabhi se milne ka mauka mila...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर प्रस्‍तुति .. बधाई हो और आशीर्वाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. चलिये मैं तो नहीं मिल पाया ,लेकिन मेरे सिद्धार्थ नगर भी आप हो आये ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सफल ,सुंदर जीवन की शुभकामनायें,

    उत्तर देंहटाएं
  11. aaj hi yah rapat dekhi achchhalagaa. shubhakamanae.....neye yugal-jeevan kliye...

    उत्तर देंहटाएं
  12. दीपक जी, हमारी ओर से भी बधाई स्‍वीकार करें। इतने सारे ब्‍लॉगर्स से मुलाकात हो गई यह तो बहत खुशी की बात है। हम सबकी इच्‍छा होती है कि जिनसे हम वर्चुअल संसार में वार्तालाप करते हैं, उन्‍हें रूबरू मिल सकें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ाउर इधर मै इन्तजार ही करती रह गयी। अगली बार न आये तो माफ नही करूँगी। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आशीर्वाद, मैं तो विचार करके ही आनंदित हो रहा हूं। आनंद की मशाल प्रज्‍वलित हो रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बस इतना सा लिखा...मैं सोच कर आई थी...कुछ विस्तार से संस्मरण पढ़ने को मिलेंगे...

    एक बार फिर से शादी की मुबारकबाद...और ढेरो आशीर्वाद....ब्लॉग पर भी एक तस्वीर तो बनती है...फेसबुक पर है..फिर भी...:)

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रिय दीपक जी ,
    लंबे समय से बीमार था मौके पर आपके सुमांगलिक जीवन की दुआएं भी ना दे सका ! अब देर से ही सही मेरा शुभाशीष,मेरी सदेच्छायें स्वीकारें ! बहु को स्नेह कहें !
    अली

    उत्तर देंहटाएं
  17. विवाह हेतु बधाई
    शुभकामनाएँ

    इत्ते सारे ब्लॉगरों से मुलाकात हो गई
    यह भी बढ़िया रहा

    उत्तर देंहटाएं
  18. दीपक, विवाह की ढेरों बधाई। समीरजी की पोस्‍ट से यहां का पता लगा और बिना लड्डू की मांग किए ही बघाई तो ले ही लो।

    उत्तर देंहटाएं
  19. शादी की शुभकामनाएं एवं बधाई दीपक जी....

    उत्तर देंहटाएं
  20. असल चित्र तो मार्शलीन और तुम्हारे विवाह के दिखाए जाने चाहिए थे। वे नदारद हैं, ... और बाकी बेकार में हम लोगों से ही जगह घिर गई है। :)

    मिलना प्रसन्नतादायक रहा।

    तुम्हारे पिताजी का स्वास्थ्य अब बेहतर हो रहा होगा।

    सुखद जीवन के लिए अशेष मंगलकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  21. दाम्पत्य बंधन की बहुत-बहुत शभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह बहुत सारी बधाईयां मेरी तरफ से भी ..

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  24. विवाह की बधाई दीपक। वैवाहिक जीवन सफ़ल और सुख हो, शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com


    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    उत्तर देंहटाएं
  26. itni der se aane ke liye... itne dino baad aane ke liye "so sorry"
    aise safar k liye bahut-bahut badhaiyaan jisme aapko aapka hamsafar mil gaya...
    aur aise logo se milne ki yaadon ko sajha karne ka bhi bhaut-bahut abhaar...

    उत्तर देंहटाएं
  27. पाबला जी के मेल से जाना कि आज आपका जन्म दिन है। सोचा बहुत दिन हुए कहां खो गए दीपक भाई..देखूं और बधाई भी दे दूं। इस पोस्ट से बहुत कुछ जाना। नई पोस्ट न आना सिद्ध करता है कि वैवाहिक जीवन सुखमय बीत रहा है। बहुत बधाई। जन्म दिन की ढेर सारी शुभ कामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. Abhee abhee ye samachar dekhe - Heartiest congratulations to the Newly weds & may god grant you all he happiness ....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...