मंगलवार, 16 फ़रवरी 2010

जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.------>>>> दीपक 'मशाल'


झूठ मैं कह नहीं पाता, सच वो कहने नहीं देते
क्यों मुझको मिरे माफिक, जग में रहने नहीं देते

क्यों तुमने बनाया है, अमरित ये हलाहल सा
(ये क्या सौगात भेजी है, अमरित भी हलाहल भी)
कभी जीने नहीं देते, कभी मरने नहीं देते

हैं इतनी सख्त दिवारें, फर्श जैसे हैं दलदल से
खड़ा मैं रह नहीं पाता, क़दम गिरने नहीं देते

बेरहम कातिल कहीं अच्छा, तुम्हारे उन उसूलों से
जो मकतूल के ग़म में, उसे रोने नहीं देते
(जो मजबूर के ग़म में, मुझे रोने नहीं देते)

इकबार में बाज़ार में, मुझे नीलाम कर दो तुम
ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते

'मशाल' सपने मुहब्बत के, बुनना चाहता लेकिन
जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.
दीपक 'मशाल'

इसी ग़ज़ल का नया रूप जिसे संवारा है आदरणीया रश्मिप्रभा जी ने-
झूठ मैं कह नहीं पाता, सच वो कहने नहीं देते
क्यों मुझे  मिरे माफिक, जग में रहने नहीं देते
क्यों तुमने बनाया  अमृत को  हलाहल सा
जो कभी  जीने नहीं देते औ  कभी मरने नहीं देते
हैं इतनी सख्त दिवारें, फर्श  हैं दलदल से
खड़ा मैं रह नहीं पाता औ  क़दम गिरने नहीं देते

बेरहम कातिल कहीं अच्छा, तुम्हारे उन उसूलों से
जो मकतूल के ग़म में, उसे रोने नहीं देते
(जो मजबूर के ग़म में, मुझे रोने नहीं देते)
इकबार  बाज़ार में, मुझे नीलम कर दो तुम
ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते
'मशाल' सपने मुहब्बत के, बुनना चाहता लेकिन
जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.


चित्र साभार गूगल से..

30 टिप्‍पणियां:

  1. इकबार में बाज़ार में, मुझे नीलम कर दो तुम
    ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते

    बहेतरीन लाइन लिखा आपने .......

    उत्तर देंहटाएं
  2. nice poem . mere vichar se neelaam ( auction ) se tatpary hai aapka....Neelam ek neele rang ka patthar hota hai jisakee ganna jawahrato me hotee hai..............







    9se tatpary hai aapka yanha .

    उत्तर देंहटाएं
  3. मित्र बदले जा सकते हैं,
    किन्तु पड़ोसी नही!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'मशाल' सपने मुहब्बत के, बुनना चाहता लेकिन
    जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.


    बहुत सुंदर पंक्तियों के साथ ....सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर एक लाईंन हर एक शब्द लाजवाब रहा दीपक भईया , और कभी-कभी पड़ोंसीयो से प्यार हो जाता है तब पर वहीं होता है जो आपके साथ हो रहा है , अब ये तो आपको ही पता होगा कि आपके साथ क्या हो रहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन गज़ल
    हैं इतनी सख्त दिवारें, फर्श हैं दलदल से
    खड़ा मैं रह नहीं पाता औ क़दम गिरने नहीं देते

    इक शेर याद आया

    मेरा गुले-उम्मीद शगुफ़्ता हो किस तरह
    दिल कि गिरह है उसकी गिरह पर लगी हुई

    उत्तर देंहटाएं
  7. इकबार में बाज़ार में, मुझे नीलाम कर दो तुम
    ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते
    gazab ki panktiyan hain.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर गजल जी, आप के पडोसी जरुर भारतिया होगे, गोरो मै इतनी हिम्मत कहां जो हमे तंग कर सके:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. इकबार बाज़ार में, मुझे नीलम कर दो तुम
    ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते
    दिल को छू गयीं ये पंक्तियाँ
    बहुत गहराई लिये रचना
    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  10. इकबार में बाज़ार में, मुझे नीलाम कर दो तुम
    ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते
    ye sher sabse umda..
    Rashmi ji ke haathon ghazal aur saj gayi hai..
    poori ghazal ki lazzat lajwaab hai..
    sahaz shabdon se kahi gayi gahri baatein..aafreen..!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. निखार में नया निखार आज देखा...वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अनुपम भाव !
    शिल्प सँवारते रहिए।
    नीलम और निलाम - चाहे जो बात रही हो, अगर बाज़ार हटा कर कोई अन्य शब्द रख दिया जाय तो अर्थ गहनता दोनों से अ जाती है , चमत्कार सी। बाज़ार तो understood है। वह शब्द क्या हो, उर्दूदाँ लोगों से पूछिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Behatreen rachana...Aabhar!
    Der se prastut hui kshma chahati hun.
    Sadar

    उत्तर देंहटाएं
  14. गिरिजेश भाई जी, मैं पता करता हूँ कोई नया शब्द.. लेकिन ये अ को आ तो कर जाते.. मुझे आपको भी कहना पड़ेगा??? :)
    राज सर वो आखिरी शेर पाक के लिए है..
    जय हिंद.. जय बुंदेलखंड...

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक बार me hi कायनात में जज्ब कर दो मुझे ...
    ये हर दिन के मोल भाव मुझे जीने नहीं देते ...

    कैसे पडोसी हैं ये ...यकीनन आपका इशारा पडोसी देश की or ही होगा ...या कह दू अब तो देशों ke or होगा ...!!

    व्यंग्य एवं व्यथा दोनों घुल मिल गए हैं इस रचना में ...बहुत बढ़िया ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल को छूती मशाल-विचारों की रोशनी

    उत्तर देंहटाएं
  17. मशाल' सपने मुहब्बत के, बुनना चाहता लेकिन
    जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.
    bahut sundar :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. dear,
    aapki tarah mai bhi muhhabat ke sapne bun raha tha, sapne mai apni "priye" se mil raha tha
    jaise hi hum aage bade, ajeeb se swar kano mai pade, hamara sapna toot raha tha, pata chala
    padosi ka kutta jor-jor se bhonk raaha tha

    PAR MAI KAHTA HOON APSE

    HUM SAB HAIN APNI DHUN KE PAKKE
    MUHHABAT KO HAQIKAT KARO, PADOSI BHI RAH JAYEN HAKKE-BAKKE

    उत्तर देंहटाएं
  20. mohhabat se tatparya

    hum hai apne iradon ke pakke, nahi darte muskilon se, karte har muslil ka samnna,
    kar jayenge ik din aisa kaam rah jayenge sab hakee-bakke

    all the best

    उत्तर देंहटाएं
  21. इकबार में बाज़ार में, मुझे नीलाम कर दो तुम
    ये हरदिन के मोल-भाव, मुझे जीने नहीं देते

    'मशाल' सपने मुहब्बत के, बुनना चाहता लेकिन
    जाने कैसे पडोसी हैं, उसे सोने नहीं देते.
    vवाह क्या खूब शेर हैं । बहुत अच्छी लगी गज़ल बधाई शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  22. HELLO MENE FISRT TIME PADI YE GAZAL......ITS OWESOME...........SPECIALLY HAR DIN K MOL BHAV MUJHE SONE NAHI DETE.......BEHAD KHUBSURAT RACHNA HAI...........ALL THE BEST GO ON WITH YOUR DREAMS

    उत्तर देंहटाएं
  23. वीणा मैम, आपने शेर को और भी खूबसूरत बना दिया.. बहुत आभारी हूँ.. मेरी समस्या हल करने के लिए..
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...