शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

मात पे भी मेरी बधाई दे दी...------->>>>>>>दीपक 'मशाल'


मैंने चाहा था उम्र भर के लिए
उसने जन्मों की जुदाई दे दी
साथ रहने का वादा करके
मुझको लोगों की दुहाई दे दी
क़ैद होकर मिरे ही दिल में
मेरी धड़कन को रिहाई दे दी
इक करम माँगा था उल्फत में
तुमने सारी ही खुदाई दे दी
आके जलसे में मेरी खुशियों के
तुमने तोहफे में रुलाई दे दी
दिल को बहला तमाम बातों से
क़त्ल कर के भी सफाई दे दी
मैं मर मिटा इस अदा पे 'मशाल'
मात पे भी मेरी बधाई दे दी...
दीपक 'मशाल'

30 टिप्‍पणियां:

  1. तेरी ज़ुल्फों से जुदाई तो नहीं मांगी थी,
    कैद मांगी थी, रिहाई तो नहीं मांगी थी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bahut sunder bhav liye hai ye gazal......har sher sashakt hai....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Are aap to jai Bundelkhand bhee likhate hai na....... ? Jai Hind ke sath....
    ho sakata hai bhram bhee ho ise umr me bhoole jyada hotee hai...yaddasht ko lekar.......

    उत्तर देंहटाएं
  4. मात पे भी मेरी बधाई दे दी..

    वाह वाह बहुत खूब..

    उत्तर देंहटाएं
  5. शब्दों औ' विचारों की मशाल
    जलती रहे सालों साल
    हम हिन्दी, लिखेंगे हिन्दी
    हस स्थिति हर हाल
    जय हिन्दी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल को बहला तमाम बातों से
    क़त्ल कर के भी सफाई दे दी
    मैं मर मिटा इस अदा पे 'मशाल'
    मात पे भी मेरी बधाई दे दी...

    दीपक 'मशाल' जी!
    आपकी यह गजल बहुत सुन्दर है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया दीपक जी ......तस्वीर भी आपकी बहुत अच्छी है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही लाजवाब, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. साथ रहने का वादा करके
    मुझको लोगों की दुहाई दे दी

    इक करम माँगा था उल्फत में
    तुमने सारी ही खुदाई दे दी

    बहुत सुन्दर दीपक जी,

    उत्तर देंहटाएं
  10. तेरी ज़ुल्फों से जुदाई तो नहीं मांगी थी,
    कैद मांगी थी, रिहाई तो नहीं मांगी थी...

    ise padhte hi ye gana yaad aa gaya.

    उत्तर देंहटाएं
  11. गहरे और सुंदर एहसास के साथ..... सुंदर कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल को बहला तमाम बातों से
    क़त्ल कर के भी सफाई दे दी
    मैं मर मिटा इस अदा पे 'मशाल'
    मात पे भी मेरी बधाई दे दी...
    दीपक कमाल की नज़्म लिखी है । बेता अब इस पर बधाई भी क्या दूँ बस आशीर्वाद है । लिखते रहो ऐसे ही भावमय रचनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ग़ज़ल दिल को छू गई।
    बेहद पसंद आई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. jane kyo anokha niyam hai,
    maut mango to zindagi, zindagi mango to maut milti hai.
    touching rachana!
    all the best!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बस ऐसे ही आशीष बनाये रखें मासी जी... @अपनत्व- मैम ये कोई भूल नहीं.. हाँ बस औचित्य कुछ और है(राजनीति नहीं) :).. मेरी पिछली पोस्ट की टिप्पणी देखेंगीं तो जान जायेंगी.
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल को बहला तमाम बातों से
    क़त्ल कर के भी सफाई दे दी

    शानदार लाइनें हैं दीपक जी, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. खुबसूरत एहसासों से बबुनी खुबसूरत रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  18. जय हिन्द के संग जय बुन्देलखण्ड का नारा भी बुलंद किया जाता रहे, दीपक.
    ये कहने की जरूरत नहीं कि इस ग़ज़ल के भाव कैसे हैं.................
    अब कुछ गद्य में भी जलवा कायम करो,
    शुभाशीष
    जय हिन्द जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  19. अबे स्मार्टी , ये क्या यार तुम्हारी हसीन जुल्फ़ें कहां गई क्या ये नया लुक दिया है । चलो भाई मौडल हो हमारे हीरो , तबियत अब ठीक है न । बहुत सुंदर है लिखा है , आज फ़िर दीपक की मशाल की लौ देखते ही बनती है
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  20. हमारी आह पर उनकी वाह ...
    कोई गल नहीं जी ...दीपक तो यूँ भी जल कर ही रौशनी बिखेरता है ...
    भावपूर्ण रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. हौसला अफजाई के लिए शुक्रिया...
    जय हिंद... जय बुंदेलखंड...

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut khoobsurat kahyal..
    aur tum behad khoobsurat shakhshiyat ke maalik bhi ho..
    foto mein to kisi film star se kam nahi lag rahe ho..
    bahut khhoob..
    didi..

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...