बुधवार, 18 नवंबर 2009

छला गया, मैं छला गया 0000000000000 दीपक 'मशाल'

दिल की टीसों को, दिल में दबाये रखना,
लोग आएंगे जब, जख्मों को छिपाए रखना.
इक तबस्सुम तो रखना होंठों पे ज़माने के लिए,
वक़्त जरूरत के लिए, आंसू भी कुछ बचाए रखना.

छला गया, मैं छला गया
अपनों के हाथों छला गया,
जो फूलों का न मिला मुझे,
पथ मंजिल तक चलने को,
अंगारों की इक राह चुनी,
जिस पर मैं चलता चला गया.


यूँ तो इक प्यासा पनघट का
और तनहा कोई जमघट का,
मिलना तो मुश्किल होता है,
पर किस्मत ऐसी मिली मुझे,
कि शीतल जल भी जला गया.
छला गया मैं छला गया.


रात पूस और चंदर पूनम,
फिर भी मेरा भाग अहो,
उसका बर्फीला ताप मेरे,
कोमल अरमानों का इक इक
जमा हुआ हिम गला गया.
छला गया मैं छला गया.


हाल-ए-दिल जिस दिलवर से,
हम सुनते और सुनाते थे,
संग राग वफ़ा के गाते थे,
हय दिल में रहकर वो दिल को,
कुछ ज़ख्म दिला के चला गया.
छला गया मैं छला गया.
दीपक 'मशाल'

22 टिप्‍पणियां:

  1. रात पूस और चंदर पूनम,
    फिर भी मेरा भाग अहो,
    उसका बर्फीला ताप मेरे,
    कोमल अरमानों का इक इक
    जमा हुआ हिम गला गया.
    छला गया मैं छला गया.

    --बहुत उम्दा भाव! वाह दीपक!! आनन्द आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  2. "जमा हुआ हिम गला गया." "कि शीतल जल भी जला गया."
    यह शब्दप्रयोग मुझे अच्छा लगा । बाकी लय बहुत बढ़िया आई है इसी तरह कविता लिखने के बाद उसे सस्वर पाठ करके देखना चाहिये ,अनावश्यक शब्द ,अपने आप हट जाते हैं ।
    और कंटेंट के बारे में क्या कहूँ बार बार छले जाने की तो यह उम्र है ही .. बस इतना ध्यान रहे कि किसी को छलने की कोशिश भी नहीं करना ..वरना...।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़माना ही ऐसा है मित्र कि मौका लगने पर हर कोई छलने की कोशिश करता है ...

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. किस्मत ऐसी मिली मुझे,
    कि शीतल जल भी जला गया.
    छला गया मैं छ्ला गया
    प्यार मे अक्सर ऐसा हो जाता है ,

    उत्तर देंहटाएं
  5. "यूँ तो इक प्यासा पनघट का
    और तनहा कोई जमघट का,
    मिलना तो मुश्किल होता है,
    पर किस्मत ऐसी मिली मुझे,
    कि शीतल जल भी जला गया.
    छला गया मैं छला गया."

    मैं तो यहीं ठहर गया । बेहद खूबसूरती से अभिव्यक्त हुआ है भाव ! आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर रचना- छले गए तो ठीक है, बाकी उपर शरद भाई ने कह ही दिया है,

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमने हर गम को सीने से लगा रखा है,
    राख़ के ढेर में शोलों को दबा रखा है...

    (दीपक मैंने ई-मेल अड्रैस वगैरहा तुम्हारी एक पोस्ट में कमेंट के ज़रिए डाला था...तुमने देखा या नहीं...ई-मेल पर अपना प्रोग्राम भेजो...)

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. यूँ तो इक प्यासा पनघट का
    और तनहा कोई जमघट का,
    मिलना तो मुश्किल होता है,
    पर किस्मत ऐसी मिली मुझे,
    कि शीतल जल भी जला गया.
    छला गया मैं छला गया.

    Really, ek khubshoorat shabdaawalee kaa istemaal kiyaa aapne, deepak ji

    उत्तर देंहटाएं
  9. जी शरद भैया, समझ गया... जैसा आप कहेंगे वही होगा.. वरना....................मेरे पास २ ही कान हैं खिंचवाने के लिए.. :)
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  10. यूँ तो इक प्यासा पनघट का
    और तनहा कोई जमघट का,
    मिलना तो मुश्किल होता है,
    पर किस्मत ऐसी मिली मुझे,
    कि शीतल जल भी जला गया.
    छला गया मैं छला गया.
    bahut pasand aaya ye rang...

    उत्तर देंहटाएं
  11. aaj kal waqt hi aisa hai...sab dhokha hi dete hai.......bahut hi acche tarike se vicharon ko shabdo mai dhala hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल की टीसों को, दिल में दबाये रखना,
    लोग आएंगे जब, जख्मों को छिपाए रखना.
    इक तबस्सुम तो रखना होंठों पे ज़माने के लिए,
    वक़्त जरूरत के लिए, आंसू भी कुछ बचाए रखना.

    निशब्द हूँ इस अभिव्यक्ति के लिये
    और
    रात पूस और चंदर पूनम,
    फिर भी मेरा भाग अहो,
    उसका बर्फीला ताप मेरे,
    कोमल अरमानों का इक इक
    जमा हुआ हिम गला गया.
    छला गया मैं छला गया.
    वाह बेटा बहुत सुन्दर गीत है बधाई ।अशा है मेरी मेल मिल गयी होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रात पूस और चंदर पूनम,
    फिर भी मेरा भाग अहो,
    उसका बर्फीला ताप मेरे,
    कोमल अरमानों का इक इक
    जमा हुआ हिम गला गया.
    छला गया मैं छला गया
    kya shabd sanyojan hai..............behatareen...
    bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपक भाई बेहतरीन लिखा है आपने |

    ये दुनिया ही छलावों की दुनिया होती जा रही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. रात पूस और चंदर पूनम,
    फिर भी मेरा भाग अहो,
    उसका बर्फीला ताप मेरे,
    कोमल अरमानों का इक इक
    जमा हुआ हिम गला गया.
    छला गया मैं छला गया.

    shabdon ka naya prayog pasand aaya deepak..
    sundar kavita hamesha ki tarah..
    bahut pasand aayi..
    lagta hai....Tum, Darpan, Mahfooz, Apoorv, Mithilesh, Chandan, Ambuj, Rakesh ityadi ne thaan liya hai hindi blog jagat ko nayi disha aur ek saarthak makam dene ka..
    Naya khoon hai aur naya josh dekh kar bahut khushi ho rahi hai...
    bahut badhiya..
    Didi..

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं क्षुब्ध था , मैं तीक्ष्ण था,
    तेवर तीखे , और आखों में शोले,
    सब उडेल दिया, उसके सन्मुख ,
    वो चुप ,मौन सहमति-असहमति,
    मुझको छोड कर चला गया,
    मैं हताश और बदहवास, फ़िर एक बार छला गया....॥


    दीपक अपने आने की सूचना देना ..नं सभी जगह उपलब्ध है ही

    उत्तर देंहटाएं
  17. दिल की टीसों को, दिल में दबाये रखना,
    लोग आएंगे जब, जख्मों को छिपाए रखना.
    इक तबस्सुम तो रखना होंठों पे ज़माने के लिए,
    वक़्त जरूरत के लिए, आंसू भी कुछ बचाए रखना.।

    क्या बात है दिपक भईया , बेहद लाजवाब व उम्दा रचना लगी । हर एक शब्द जैसे बरस पड़े

    उत्तर देंहटाएं
  18. Dipak baat to sahi hai.... aajkal har koi chhalne ki hi koshsih karta hai....

    ek naye experiment ke saath bahut hi behtareen rachna.......

    dipak ....deri se aane ke liye maafi chahta hoon bhai....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...