गुरुवार, 12 नवंबर 2009

जाने क्या समझा.TTTTTTTTTTTTदीपक 'मशाल'

तूने कहा था जाने को मगर, मैं इशारा जाने क्या समझा,
था तो इंकार तेरी जानिब से, ये ज़माना जाने क्या समझा.


पानी न था मेरी आँख में जब, वो पत्थर बुलाता रहा मुझे,
तेरी चुनरी ने अश्क सोखे तो, वो फ़साना जाने क्या समझा.


मेरी खता क्या है ये बता मुझे, साज़ मेरा नहीं गलत यारा,
मैंने छेड़ी थी तान उल्फत की, तू तराना जाने क्या समझा.


तुम तो भंवर में तैरने के आदी हो, ये सुना करते हैं हम,
जो हमने अपनी नाव डाली, तो किनारा जाने क्या समझा.


किसको वफ़ा है मिली भला, ढाके यहाँ सितम-ए-जफ़ा,
उनकी मसखरी की आदत को, दिल हमारा जाने क्या समझा.


यूंही शब् भर था सिसकता रहा, मेरी कहानी सुन के 'मशाल',
मुझे था शौक गम सुनाने का, वो दीवाना जाने क्या समझा.


दीपक 'मशाल'
चित्र- दीपक 'मशाल' के कैमरे से...

24 टिप्‍पणियां:

  1. meri khata kya hai ye bata mujhe, saaj mera nahi galat yaara
    maine chhedi taan ulfat ki tu tarana jaane kya samjha....

    sabhi sher bahut acche lege Deepak, lekin ye mujhe bahut pasand aaya...
    sabhi kahte hain bahut accha likhte ho...
    galat thode hi na kahte hain...
    ab socho mujhe kitni khushi hoti hai sunkar..!!
    Didi..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं ये सोच कर उसके घर से चला था
    के वो रोक लेगी, मना लेगी मुझको
    मगर उसने रोका न वापस बुलाया
    न दामन ही पकड़ा, न आवाज़ दी
    यहां तक के उससे जुदा हो गया मैं,
    जुदा हो गया...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल ....
    किस शेर की तारीफ़ करे ..किसे छोडे ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही खूबसूरत शेर हैं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Dipak........ek sher bahut hi ghazab ke hain....wo deewana jaane kya samjha.....bahut hi khoobsoorat pankti hai.....

    dil ko chhoo gayi........

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये ग़ज़ल बहुत खूसूरत है ,मैं तो बस इतना समझा

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीपक साहब,
    आप सही में मशाल जलाये बढ़ रहें हैं...ब्लॉग के काव्यजगत में...
    पहली बार इन सुन्दर कृतियों को देखा, इसका दुःख रहेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  8. Hausla afzaai ke liye aap sabhi mahanubhavon ka tahedil se shukriya...
    Jai Hind...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मशाल जलाये रहिये दीपक भाई ज़माना कभी तो समझेगा । सुंदर गज़ल के लिये बहुत-बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मशाल जी!
    आपके शब्द और चित्र बहुत ही बढ़िया हैं।
    मगर ब्लॉग से ताला तो हटाइए!
    इससे मुझे चर्चा करने में सुविधा रहेगी!

    उत्तर देंहटाएं
  11. abhi kuch jagah tippaniya di hain / lekin bas aapki post pe hi chhap rahi hai tippani /
    baki pe nahi chhap rahi

    उत्तर देंहटाएं
  12. यूंही शब् भर था सिसकता रहा, मेरी कहानी सुन के 'मशाल',
    मुझे था शौक गम सुनाने का, वो दीवाना जाने क्या समझा.
    बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है। हर शे'र पर मस्तिष्क कुछ सोचने के लिए बाध्य हो जाता है और महसूस होता है कि यह ग़ज़ल फ़क़त मनोरंजन के ही लिए नहीं है। बधाई.
    महावीर शर्मा

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह दीपक जी, उम्दा शेरों से भरी ग़ज़ल.

    - सुलभ

    उत्तर देंहटाएं
  15. maine 10-12 baar padhi ki pata chal paaye best lines kaun si hain.. par sab ek se badhkar ek hain!!!
    do jagahon par to main atak sa gaya...
    तेरी चुनरी ने अश्क सोखे तो, वो फ़साना जाने क्या समझा.
    aur
    मुझे था शौक गम सुनाने का, वो दीवाना जाने क्या समझा.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...