गुरुवार, 19 नवंबर 2009

तुम तो आओगी ना????????????दीपक 'मशाल'

 अभी कल ही की बात है कि मैं अपनी एक ब्लॉगर मित्र शोभना जी से जी मेल पर लिख लिख के बतिया रहा था.. कि अचानक उन्हें कुछ याद आया तो वो बोलीं कि उनकी एक विशेष साईट पर उन्होंने एक नयी तस्वीर डाली है और जब मुझे वक्त हो तो वो देख लूं... लेकिन लैब में होने की वजह से मैं फ़ौरन नहीं देख सकता था... सो मैंने तुरत-फुरत एक कविता रुपी जवाब तैयार किया.. हालाँकि सिर्फ पहली दो पंक्तियों को छोड़ दें तो बाकी सब सिर्फ कविता लिखने के उद्देश्य से लिखा गया है... इसलिए इसे अन्यथा ना लें...

देखूँगा!!!
देखूँगा तस्वीर तुम्हारी... 
तसल्ली से,
सिर्फ देखने को नहीं...
दिल में उकेरने के लिए भी.
जल्दबाजी में चेहरा
बिगड़ भी सकता है,
एक पल देखने भर से
ना जाने..
दिमाग में क्या छप जाये..
देखूं तुम्हें...
और दिल में कोई और बस जाए...
सिर्फ  देखना ही नहीं है ना.....
उसे
अपने खूँ में कुछ हरा रंग मिला के
फिर उस रंग से बने एक नए रंग से
कागज़ पे उतारना भी तो है....
अरे हाँ...
हरा इसलिए मिलाना कि........
इसके मिलाने से बने नए रंग को
देख कर,
पहिचान ना कर सको तुम
की इसमें लहू भी मिला है मेरा...
क्योंकि मुझे पता है
के तुम्हे पता चल गया तो
बहुत रोओगी तुम,
मेरे जिस्म में दौड़ते 
लाल रंग से बनी,
अपनी तस्वीर  देख के......
और 
इतना तो पता है मुझे भी
कि लाल में हरा मिलाने से
काला होता है.
ऐसा..... ऐसा काला..
कि पहिचान नहीं हो पाती
कि 'किस-किस रंग से
कैसे बना है कोई रंग'......
बस कहीं से थोड़े
हरे रंग भर कि जुगाड़ हो जाये,
अरे हाँ....
मैं भी ना....
वो तो मेरी 
पुरानी टेबल की दराज़  के
अन्दर वाले खाने में फंसा पड़ा है..
जाने कब से.....
सोचा था के
किसी खुशी में भरने के काम आएगा कभी...
चलो आज किसी काम आ ही गया...
लेकिन गज़ब बात है...
गज़ब बात है कि 
तुम्हारी तस्वीर में
लाल और हरे रंगों को
मिला के भरने से,
रंगीन रंगों के इस्तेमाल के बाद भी...
बनेगी...
बनेगी सिर्फ एक रंगहीन...
श्वेत-श्याम तस्वीर.............
देखो है ना कितना अजीब,
कि मेरे रंगीन रंग भी
तुम्हारी तस्वीर को
मेरी ज़िन्दगी की तरह
सादा बना देंगे....
पर......
तुम तो आओगी ना?????
रंग भरने..
अरे.... तस्वीर में नहीं...
मेरी ज़िन्दगी में.....
मेरी ज़िन्दगी में.....
दीपक 'मशाल'
चित्रांकन-दीपक 'मशाल'

34 टिप्‍पणियां:

  1. र......
    तुम तो आओगी ना?????
    रंग भरने..
    अरे.... तस्वीर में नहीं...
    मेरी ज़िन्दगी में.....
    मेरी ज़िन्दगी में.....


    --बड़ी गहरी बात कह गये बात बात में भाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इतना तो पता है मुझे भी
    कि लाल में हरा मिलाने से
    काला होता है.
    वेदना, करुणा और दुःखानुभूति को उजागर करती रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह प्यारे........
    त्वरित प्रतिक्रिया....
    वो भी कविता में...
    बढ़िया ही नहीं बहुत बढ़िया....

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिन्दगी और तस्वीर का फर्क उकेरती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोई रंग भरे या न भरे, आपने कई रंग भर दिए इस रचना के माध्यम से।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. आजे अपनी फ़ोटू मेल करते हैं ....देखें दीपकवा कौन मशाल जला के कविता बनाते हैं .....?

    उत्तर देंहटाएं
  7. देखो है ना कितना अजीब,
    कि मेरे रंगीन रंग भी
    तुम्हारी तस्वीर को
    मेरी ज़िन्दगी की तरह
    सादा बना देंगे....
    वैसे तो मुझे कविता की कोई समझ नहीं है मित्र लेकिन फिर भी इतना ज़रूर समझ आया कि ...

    गहरी बातों को शब्दों के माध्यम से मिनटों में कह डालना..आपके लिए ...बाएँ हाथ का खेल है

    उत्तर देंहटाएं
  8. Dipak ........ bahut hi behtareen kavita...... ek ek shabd jeevant hai... pyar aur sneh prastut karne ka ek anootha maadhyam hai tasveer aur kavita....

    Shobhna ji ko bahut bahut badhai....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आ जाएगी कभी कोई रंग भरने ...शुभकामना ...
    मगर ये खून से रंग देने का आईडिया त्याग दे ...किसी मरीज के काम आयेगा...!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद खूबसूरत रचना । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर,नही बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  12. are waah i to fatafat kavita hai...
    khoobsurat khayal jo rangon ki chhata bikher rahe hain..
    accha laga padh kar..
    didi..

    उत्तर देंहटाएं
  13. हाय ये जुल्फ कैसी है,
    ज़ंजीर जैसी है...
    वो कैसी होगी,
    जिसकी तस्वीर ऐसी है...

    जय हिंद.

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक ही झटके मे जवाब बहुत हाज़िर जवाब हो मियां।
    देखो है ना कितना अजीब,
    कि मेरे रंगीन रंग भी
    तुम्हारी तस्वीर को
    मेरी ज़िन्दगी की तरह
    सादा बना देंगे....
    अरे तुम सादे हो? कमाल है बहुत बहुत आशीर्वाद तुम्हारे सादेपन के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  15. This instant poem of yours has come out beautifully
    Congrats
    Your poems are full of Soul and Depth...
    sometimes it takes more than a few seconds to come out of it..
    wish you all the sucess

    उत्तर देंहटाएं
  16. फोटो देखकर रंगाई पुताई पर उतर आये , सामने देखकर पता नही
    क्या करेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. अब खाली फोटो से काम नही चलेगा मियां। तस्वीर से बाहर निकाल ही लो।
    अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. tum to aaogi na.........na jaane kaun sa jadoo bhara hai inhi shabdon mein.........in shabdon ne hi jaise sara hal-e-dil bayan kar diya.......phir bhi jis rang mein doobkar aapne likha hai wo rang har kisi par nhi chadha karta.......badhayi itni sundar kavita ke liye.

    उत्तर देंहटाएं
  19. wah wah.........ek bahut hi acchi poem likh di.....vakai u r gr8 writer..........

    उत्तर देंहटाएं
  20. आप सबका स्नेह मिल रहा है ये बहुत बड़ी बात है मेरे लिए, लेकिन कभी सुझाव भी दीजियेगा.. कहीं यहीं ना अटका रहा जाऊं, आगे ना बढ़ पाऊं... जय हिंद..

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत लाजवाब . शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. wah wah.........ek bahut hi acchi poem likh di.....vakai u r gr8 writer..........

    उत्तर देंहटाएं
  23. तुम तो आओगी ना?????
    रंग भरने..
    अरे.... तस्वीर में नहीं...
    मेरी ज़िन्दगी में.....
    मेरी ज़िन्दगी में.....
    वाह बहुत सुंदर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब है !

    उत्तर देंहटाएं
  24. Ajay bhaia abhi tak aapki photo nahin mili :)...
    Arshia ji chitra ki taraf dhyaan dene ke liye bahut shukriya...

    उत्तर देंहटाएं
  25. waah deepak bhaai rango ka mel bataane ke sath hi ek sundar romantic rachanaa bhi jisme dil ki bhawnaaon ka rang bhar baut khubb!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूब दीपक जी !
    एक पुराने गाने की दो लाइने याद आ गयी
    जितने भी मिले रंग वो सब भर दिए तुझमे.. अरे भर दिए तुझमे !
    इक रंग -ए-बफा और है लाऊ वो किधर से ...........!

    उत्तर देंहटाएं
  27. भई दीपकजी आपने तो हमारा रंग पसंद किया तस्वीर बनाने में !!! पर आपने हरे को काला कर दिया!!! यही होता है हम जब हरा भरा चरने जाते है तो अकाल से जलकर धान कला हो हो जता है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. कविता तो बनने की प्रक्रिया में है ..अभी रंग भरलो ज़िन्दगी की तस्वीर मे ..कविता मे भी आ जायेगा

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...