रविवार, 22 नवंबर 2009

तुम न थे.....^^^^^^^^^^^^^^^^^^दीपक 'मशाल'

आज से ७ वर्ष पूर्व.... कुछ सोच रहा था और देश में चल रहे कई अभियानों की विफलताओं और उनके मकसदों को लेके दिमाग में एक ऊहापोह थी... जिसका फ़ायदा उठाते हुए दिल ने एक छोटी सी कविता के रूप में उन आंदोलनों के सफल न हो पाने का सांकेतिक कारण तलाशा.. देखिये कहाँ तक सही है ये सोच????


अब भी
हो रहे थे जनांदोलन,
चल रहा था
स्वदेशी अभियान,
बम चलते थे..
छुरे और बंदूकें भी,
तत्पर थे अब भी लोग
उखाड़ फेंकने को
सत्ताधारी सरकार को....
अभी भी
हुंकार भरती थीं कई जानें
एक इशारे पर...
देखते थे कोटि दृग,
एक दृग देखे जिधर....
अभी भी
बढ़ रहे थे कोटि पग,
एक पग बढ़ता जिधर....
लोग
सर्वस्व न्योछावर
करने को थे तत्पर,
अपने नेताओं के इशारे पर....
सब तो था,
रैलियाँ, हड़तालें,
विद्रोह, अफवाहें और
जनसभाएं....
अभी भी
सब था पूर्ववत मगर...
कुछ फर्क था शायद....
हाँ!!!!
इस भीड़ में कहीं....
भगत तुम न थे..
आज़ाद तुम न थे..
सुभाष तुम न थे.....

दीपक 'मशाल'
चित्र- साभार गूगल से...

29 टिप्‍पणियां:

  1. असाधारण शक्ति का पद्य, बुनावट की सरलता और रेखाचित्रनुमा वक्तव्य सयास बांध लेते हैं, कुतूहल पैदा करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....


    यही फर्क है

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिन्हें नाज़ हैं, हिंद पर.
    कहां हैं, कहां हैं, कहां हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब आज तो दीपक से लौ नहीं पूरी मशाल जल रही है भाई ..
    प्रभावी रचना ..बांक असल तो पाबला जी कह ही चुके हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. भगत,आजाद,सुभाष जैसे न लोग हैं न विचार हैं और इनके जैसा मक्सद तो होता ही नही, सही सोच है आप की । दीपक जी एक गुजारिश है-मुझे सर मत कहें,अभी इस ओहदे तक नही पहुंचा हूं

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....

    कोई सवाल ही नहीं सफल होने का , दीपक भईया बिनां इनके ।

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही ओजपूर्ण कविता है और मन की विवशता भी दर्शाती है....यह संयोग ही है कि यह कविता पढ़ी और आज ही सुबह TOI में शहीद संदीप उन्नीकृष्णन के पिता का वक्तव्य पढ़ा,"सब लोग भगत सिंह जैसा बेटा चाहते हैं पर अपने पडोसी के घर में "

    उत्तर देंहटाएं
  8. "सब लोग भगत सिंह जैसा बेटा चाहते हैं पर अपने पडोसी के घर में "
    रश्मि मैम, ये वाक्य कितने सालों से सुनता आरहा हूँ, पता नहीं... पर आज तक पता भी नहीं चला की ये सुन्दर बात सबसे पहले कही किसने... किसी को पता हो तो बताएं जरूर..और किस सन में? बात कही एकदम सटीक है .. जिसने भी कही हो...
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज सुबह मैंने भी जब यह वाक्य पढ़ा "सब लोग भगत सिंह जैसा बेटा चाहते हैं पर अपने पडोसी के घर में" तो सन्न रह गया दिमाग की सारी खिड़कियाँ बंद हो गईं।

    मेरे भारत के लोगों की सोच कैसी हो गई है, क्या इनके अंदर की देशप्रेम की भावना की मौत हो गई है, क्या शहीदों के परिजनों को यह सोच जस्टीफ़ाई कर पायेगी। नहीं....

    इसका उत्तर तो देना पड़ेगा सबको देना पड़ेगा कोई इस प्रश्न से भाग नहीं सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....

    bahut sateek aur saarthak panktiyan.....

    bahut achchi lagi yeh deshprem par kavita....

    JAI HIND.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. सब था पूर्ववत मगर...
    कुछ फर्क था शायद....
    हाँ!!!!
    इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....

    बिल्कुल सही!

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या इसी स्वराज का सपना देखा था हमने ?
    भगत, आज़ाद, सुभाष की आत्मा तड़प रही होगी, आज के हालात देखकर।

    उत्तर देंहटाएं
  13. sसात साल पहले?
    अरे देख लो कहीं जन्म लेते ही कोई कविता तो नहिन लिखी? बहुत हैरान हूँ इतनी कम उमर मे इतनी अच्छी कविता लुखते रहे हो वाह अद्भुत इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....
    ये कमेन्ट जल्दी मे दे रही हूँ कल फिर आती हूँ बहुत बहुत आशीर्वाद्

    उत्तर देंहटाएं
  14. bhai waah waah !

    kamaal ki nazar aur kamaak ki karigari ka upyog karte hue apne jo jaan dar aur shaan daar kavita rachi hai.,...na keval vaicharik star par balkishilp aur kavya ke star par bhi bahut gahri abhivyakti hai

    badhaai !
    abhinandan !

    उत्तर देंहटाएं
  15. वे सब हैं, मेरे और आपके रूप में पर भीड से निकल उसके आगे नहीं आते.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....
    yahi sabse bada farak hai....bahut sateek lekhan.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही प्रभावी रचना...... दीपक जी ........ कमाल की अभिव्यक्ति है ..... मन की टीस उतारी है कागज़ पर .........

    उत्तर देंहटाएं
  18. अब जो आंदोलन होते हैं
    उनको जन समर्थन नहीं मिल पाता
    ऐसा नहीं है कि हमारे देश के युवाओं के भीतर वो जज्बा समाप्त हो गया है
    वरन सच यह है कि
    हमारा नेतृत्व ऐसा आंदोलन नहीं कर पाता
    जिसके इरादे नेक हों....
    ----सार्थक चिंतन के लिए प्रेरित करती सफल कविता के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहद प्रभावशाली रचना
    पाठक से सीधे संवाद करती पंक्तियाँ
    बहुत सुंदर
    शुभ कामनाएं



    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    प्रत्येक बुधवार रात्रि 7.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    क्रियेटिव मंच

    उत्तर देंहटाएं
  20. सही कहा आपने, अगर आज भगत और आजाद होते, तो फिर देश ऐसा न होता।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सब था पूर्ववत मगर...
    कुछ फर्क था शायद....
    हाँ!!!!

    हाँ मेरे भाई. बहुत सही कहा आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ फर्क था शायद....
    हाँ!!!!
    इस भीड़ में कहीं....
    भगत तुम न थे..
    आज़ाद तुम न थे..
    सुभाष तुम न थे.....
    100% sach..
    aur han ye bhi 100% sach hai ki log padosi ke ghar mein bhagat singh chahte hain... ya fir "A Wednesday" ki wo line yaad kar lein.. "APNE GHAR KI SAFAAI MEIN HATH KAUN KHARAB KARE!!!"

    उत्तर देंहटाएं
  23. तुम्हारी गज़लें पढ़ कर अच्छा लगा ...खुशियाँ तुम्हारी गली में आती रहे इन्ही दुआओं के साथ
    .दी देर से जवाब दे रही हूँ अपने भाई को , तुम्हारा 'दी' कहना अच्छा लगा ; कसक सीरियल [डी डी नेशनल पर २.३० दोपहर ] में मुझे [वसुंधरा ]मेरा भाई बी .के .राजपूत दी ही कहता है मुझे बहुत अज़ीज़ है ये लफ्ज़ .

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...