रविवार, 21 मार्च 2010

अनुभूतियाँ------->>>दीपक 'मशाल'

प्रकाश के व्युत्क्रम से जब..
मन घबरा जाता है,
सोना-जागना/ खाना-पीना..
जीवन का क्रम बन जाता है..
सर-दर्द तो मुझको
याद है रहता
अपनी स्वयं की देह का,
आसपास की.. मौतों को पर
जब मन बिसरा जाता है...
आगे बढ़ने को आतुर हो जब
एड लगाता हूँ खुद को,
कोई मुझसे बेहतर हो ना जाये
मैं टांग अड़ाता हूँ सबको..
जब सौ रुपये के शौक में से
दस-बीस रुपये की..
कटौती नहीं कर पाता,
एक भूखे का पेट भरने के लिए...
जब मैं बस में..
साथ बैठी लड़की को,
ऐसे ही छोड़ देता हूँ
मनचलों से डरने के लिए...
जब अपना काम जल्दी कराने के लिए,
'सत्यमेव जयते' छपे रंगीन करारे कागज़,
गंदले होने के वास्ते मेज़ के नीचे,
घूसखोरी के कीचड़ में सने हाथों में थमाता हूँ...
जब अपने फायदे के लिए,
औरों के हितों को भाड़ में झोंक,
किसी जान पहिचान के गुंडे के नाम पे
मोहर लगाता हूँ या बटन दबाता हूँ...
''तू सामाजिक प्राणी हैं मानव..
ऐसे ही जीना होता है..''
ऐसा ही कुछ कुछ कह के जब
चेतन मन को बहला लेता हूँ
खुद को समझा लेता हूँ...
तब नीम बेहोशी में,
स्वप्नों में आकर...
धमकाती हैं,
धिक्कारती हैं मुझको..
मेरे अंतस की अनदेखियाँ..
झपकती पलकों की अनुभूतियाँ....
झपकती पलकों की अनुभूतियाँ....
दीपक 'मशाल'

23 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार है , अंतर्मन की आवाज है

    उत्तर देंहटाएं
  2. घूसखोरी के कीचड़ में सने हाथों में थमाता हूँ...
    जब अपने फायदे के लिए,
    औरों के हितों को भाड़ में झोंक,
    किसी जान पहिचान के गुंडे के नाम पे
    मोहर लगाता हूँ या बटन दबाता हूँ...

    एकदम सही बात दीपक जी यही बात आज मैंने भी अपनी कविता में कही है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतरात्मा की सटीक आवाज.....
    ..........
    .......मेरी अंतरात्मा भी ऐसे ही कचोटती है....
    मेरी व्यथा पढ़ें...
    विश्व गौरैया दिवस-- गौरैया...तुम मत आना.(कविता)
    लड्डू बोलता है ....इंजीनियर के दिल से....
    http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_20.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. वेहतरीन दीपक भाई
    http://sharatkenaareecharitra.blogspot.com/2010/03/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस यहीं कोशिश करनी चाहिए कि कभी हमारी नज़र अंतस की अनुभूतियों के आगे न झुके...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. हां मनुष्य एक सामजिक प्राणी तो है पर सभ्य होने के लिए निर्भय होना नितांत आवश्यक है। संवेदनशील रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. किसी जान पहिचान के गुंडे के नाम पे
    मोहर लगाता हूँ या बटन दबाता हूँ...
    लेकिन बार बार क्यो क्या पंच साल्मै भी अक्ल नही आती?
    बहुत सुंदर ओर सटीक. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. जबरदस्त प्रस्तुति ........क्यों होगया है मनुष्य ऐसे ?... शायद इसका कोई जवाब नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं टांग अड़ाता हूँ सबको..
    जब सौ रुपये के शौक में से
    दस-बीस रुपये की..
    कटौती नहीं कर पाता,
    यही तो सच्चाई है और शायद यही तो मजबूरी है

    उत्तर देंहटाएं
  10. बताना चाहूँगा कि ये मेरे प्रथम काव्य संग्रह की शीर्षक रचना भी है..

    उत्तर देंहटाएं
  11. धिक्कारती हैं मुझको..
    मेरे अंतस की अनदेखियाँ..
    ...वाह!
    कोई देखे या ना देखे मौला देख रहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही है । अंतर्मन की आवाज़ सुननी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. घूसखोरी के कीचड़ में सने हाथों में थमाता हूँ...
    जब अपने फायदे के लिए,
    औरों के हितों को भाड़ में झोंक,
    किसी जान पहिचान के गुंडे के नाम पे
    मोहर लगाता हूँ या बटन दबाता हूँ...

    एक विवेकशील व्यक्ति से यही उम्मीद भी करती हूँ..
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...यह कविता निःसंदेह उचित स्थान पर है तुम्हारे प्रथम काव्य संग्रह में....
    दीदी..

    उत्तर देंहटाएं
  14. गज़ब,आत्म मंथन के लिए बहुत स्पष्ट कविता.

    बहुत अच्छी रचना .

    VIKAS PANDEY

    WWW.VICHAROKADARPAN.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  15. antratma sahee margdarshan hee karatee hai aap soe ye chalega bas ise jagrut rakhiye............

    Duniya ko aisee saaf soch vale noujavano kee sakht jaroorat hai............
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  16. antas man ki pukaar ko behtareen tarike se prastut kia hai aapne..bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत अच्छा लिखा है आपने एक कड़वा सच जिसे हमारा झूटलाते हैं तो यही निकलता है दिल से
    धिक्कारती हैं मुझको..
    मेरे अंतस की अनदेखियाँ..
    झपकती पलकों की अनुभूतियाँ....
    झपकती पलकों की अनुभूतियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन, हकीकत को बयां करती और तल्ख रचना..और यही यथार्थ भी है हम सबका...अनुभूतियाँ सुविधा के बहाने हमारी मजबूरियों की बेड़ी मे कैद रह जाती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  19. Deepakjee
    madam sambodhan se chutkara acchaa laga.........
    shubhkamnae.............

    उत्तर देंहटाएं
  20. एकदम सटीक और सारगर्भित अभिव्‍यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही संवेदनशील रचना है...अन्तःमन से निकली हुई...बहुत कुछ सोचने को विवश करती हुई कविता..

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...