शुक्रवार, 29 जनवरी 2010

मुझको आई ना कभी अदा-ए-इज़हार सनम--------->>>>>>>दीपक मशाल

३ रचनाएँ--

1-
मुझको आई ना कभी अदा-ए-इज़हार सनम
अदा-ए-खामोशी तुम समझ ना सके
खता लबों की है जो बयाँ ना कर पाए
मगर जुबान-ए-निगाह तुम भी तो पढ़ ना सके
मैंने दिल ही दिल में चाहा है दिल से तुमको
मुझको ग़म नहीं कोई कि प्यार कर ना सके

2-
पता नहीं
बेवफा तुम थे
हालात थे
या मेरे दिमाग के उपजे प्रेत
लेकिन
अगर तुम साथ देते
तो हम इस गिरह को सुलटा सकते थे
प्यार पे लगे इस बदनुमा दाग को
मिटा सकते थे
तुमको भुलाना तो कभी जायज़ ना था
पर हाँ बेवफाई की वजहें भुला सकते थे
अगर साथ देते जो तुम,
इक बार ज़माने से कहते तो मुझे अपना
फिर दिल-ओ-जिगर की तरह मुझको भी गिना सकते थे
बस मेरी खुशी में एकबार मुस्कुराते तो तुम
फिर चाहे तो उम्र भर मुझको रुला सकते थे...

3-
याद में तेरी ना अश्क बहायेंगे
जानते हैं वर्ना सो ना पाओगे
उम्र बिता देंगे इसी उम्मीद पे
लौट के इक दिन कभी तो आओगे
टूट के जब भी बिखर जाऊंगा मैं
बाँधने बाँहों में तुम ही आओगे
ख़ाक होके जब मिलूंगा इस हवा में
सांसों में भरने को तब तो आओगे
पूछती है हर घड़ी तुमसे जुडी
नाम आधा किस तरह भुलाओगे
बीते लम्हे बार बार आते नहीं
कम से कम इतना तो कहने आओगे....

दीपक मशाल
चित्र अपने कैमरे से...

20 टिप्‍पणियां:

  1. वाह दीपक आज एक साथ तीन , लगता है अमिताभ की नई पिक्चर तीन पत्ते का असर है , तीनों ही दमदार हैं भई , इश्क तो हो गया है इतना यकीन है , अब देखते हैं कितना लिखवाता है
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब तक साँस है बाकी ,
    तक तक आँस है बाकी ,
    खाक होंगे जब कभी
    हम हे वफा परस्त ,
    रोंने वालो की कतार तुम भी नजर आओगे ।

    दीपक भईया आजकी आपकी रचना कहीं ना कहीं बहुत भीतर तक छू गयी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे नहीं अजय भैया, इश्क़ तो १७ साल पुराना हो गया... मिथिलेश बहुत अच्छा उदाहरण दिया...
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आँखों से वो सब कह दे जाना..जो ये खामोश लब न कह सकें...
    मुझ बेज़ुबान की जुबां बन ब्याँ करना इन्हें खूब आता है ...

    अभी कुछ देर पहले ही अजय झा जी की पोस्ट पे कमेंट किया था कि ...कविता के किटाणु कुलबुलाने लगे हैं...
    आप जैसे साथियों कि संगत में रह कर शायद ये मुमकिन भी हो जाए ...
    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओह!! ओह! ओह!! तीन बार तीनों पर..दिल से निकला!!

    बहुत उम्दा दीपक!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझको आई ना कभी अदा-ए-इज़हार सनम
    अदा-ए-खामोशी तुम समझ ना सके
    खता लबों की है जो बयाँ ना पाए
    मगर जुबान-ए-निगाह तुम भी तो पढ़ ना सके
    मैंने दिल ही दिल में चाहा है दिल से तुमको
    मुझको ग़म नहीं कोई कि प्यार कर ना सक
    जबाब नही तीनो कविताओ का, लेकिन् यह वाली तो बहुत प्यारी लगी अपनी सी.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझको आई ना कभी अदा-ए-इज़हार सनम,
    अदा-ए-खामोशी तुम समझ ना सके…
    खता लबों की है जो बयाँ ना पाए ,
    मगर जुबान-ए-निगाह तुम भी तो पढ़ ना सके…
    मैंने दिल ही दिल में चाहा है दिल से तुमको,
    मुझको ग़म नहीं कोई कि प्यार कर ना सके…

    kya baat hai deepak bhaiya... aapne to mere man ki baat kar di...

    उत्तर देंहटाएं
  8. भई वाह....!
    तीनों शब्द-चित्र बहुत बढ़िया हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दीपक तीनो कविताओं की तासीर माशाल्लाह ..!!!
    हर्फ़ दर हर्फ़ अहसासों के कारवाँ लगे है...
    तुम्हारा अंदाज़-ए-बयाँ तारीफ से परे है..
    समझ नहीं आया किसकी तारीफ करूँ ...यूँ लगा जैसे किसी ने मुझसे पूछ लिया आपको अपने तीनों बच्चों में से सबसे ज्यादा कौन पसंद है...
    तो बाबा ये हम नहीं बता पायेंगे...
    समीर जी की तरह ओह !! ओह !! ओह !! तो नहीं वाह !! वाह!! वाह !! कहते हैं..
    ऐसे ही लिखते रहो..
    दीदी...

    उत्तर देंहटाएं
  10. नज़्म दिल से लिखी, दिल से निकली और दिल में समा गई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब .......भावनाओ की नदी को... आपने शब्दों के सागर में मिला दिया .

    उत्तर देंहटाएं
  12. दीपक भईया आजकी आपकी रचना कहीं ना कहीं बहुत भीतर तक छू गयी ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझको आई ना कभी अदा-ए-इज़हार सनम
    अदा-ए-खामोशी तुम समझ ना सके
    खता लबों की है जो बयाँ ना कर पाए
    मगर जुबान-ए-निगाह तुम भी तो पढ़ ना सके
    मैंने दिल ही दिल में चाहा है दिल से तुमको
    मुझको ग़म नहीं कोई कि प्यार कर ना सके

    ye hi majboori hoti hai nigahon ki ki unki jubaan nhi hoti aur jiski jubaan hoti hai usne dekha nhi hota.........phir batao kais eizhare ishq hota.

    bahut sundar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  15. पूरी कहानी सलीकेवार खूबसूरती से कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्या बात है..एक से बढ़कर एक हैं ये कवितायें....मन के भावों को समेट कर रख दिया है...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  17. समीर जी कि आह! आह! और अदा दी की वाह! वाह! दोनों ही आशीर्वाद हैं... आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया कि इस पोस्ट को तवज्जो दी.
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...