शुक्रवार, 24 सितंबर 2010

किस किस का नाम लूं मैं मुझे हर किसी ने चाहा..------>>>दीपक मशाल

'किस किस का नाम लूं मैं मुझे हर किसी ने चाहा..' मसि-कागद को बनाये भी करीब एक साल हो गया और ईश्वर के बनाये दीपक मशाल ब्लॉग को भी ३० साल पूरे.. और पीछे मुड़ कर देखता हूँ तो ये पंक्तियाँ ही मन में आती हैं (हालाँकि मारा कि जगह हमेशा मन में चाहा ही आता है..)
जैसा कि लोग मानते हैं कि ६० साल सठियाने की उम्र है.. तो आज मैं उस सठियाने की उम्र से उतने ही फासले पर हूँ जितना उसके करीब आ गया हूँ..
पिछले एक साल से जबसे ये ब्लॉग बनाया.. तब से अब तक निरंतर आप सबका स्नेह मिलता रहा है और उसके लिए मैं आपका आभारी तो कतई नहीं हूँ. क्योंकि आभार परायों से जताया जाता है और आप में से कोई भी यहाँ पराया नहीं मेरे लिए. भरसक कोशिश की कि किसी को नाराज़ ना करुँ.. क्योंकि मेरी ज़िंदगी का जो मकसद है वो किसी को नाराज़ करके कभी पूरा नहीं हो सकता. उसके लिए मुझे आप सबके स्नेह, आशीष और मार्गदर्शन की जरूरत है.
आपसे श्याम नारायण पाण्डेय जी की पंक्तियों के माध्यम से अपनी बात कहना चाहता हूँ-
'जिसपर कृपा हो आपकी
वह जग विजेता हो गया
उसको ना कुछ दुर्लभ
धरा का धीर नेता हो गया.'
वैसे कभी जानबूझ कर किसी को दुखी करने की मेरी मंशा तो नहीं रही मगर अनजाने में ही हाल के दिनों में यदि आप में से किसी को भी मेरी किसी बात से तकलीफ हुई हो तो वो मुझे नादाँ, बेवकूफ और अपना समझ कर कम से कम इसबारी तो माफ़ कर देंगे.. ऐसा मेरा विश्वास है. आगे से कोशिश करूंगा कि सिर्फ वही बात कहूं जो किसी को कष्ट ना दे.
एक बार फिर उन सबसे जो आहत हुए हैं यही कहूँगा कि-
'नाथ शम्भु धनु भंजनिहारा
होइहे कोऊ इक दास तुम्हारा'
आप में से ही कुछ अज़ीज़ हैं जिन्होंने मेरे परिवार को देखने की इच्छा ज़ाहिर की थी सो इच्छा का सम्मान करते हुए अपने संयुक्त परिवार के कुछ सदस्यों से यहाँ पहिचान करा रहा हूँ..
मेरे आदरणीय बाबा एवं स्व.दादी जी*

मम्मी एवं पापा

गार्गी(सहोदर बहिन) और संजय जी देव के साथ
पापा जब उनकी शादी हुई थी तब*


मेरे भांजे श्री देव जी एवं बहनोई श्री संजय जी
पापा के बचपन की तस्वीर*
ये है आपका गुनहगार
 दिल से ईश्वर से जो दुआ निकलती है उसे शब्द दिए हैं- 
इक हाथ कलम दी देव मुझे
दूजे में कूंची पकड़ा दी..
संवाद मंच पर बोल सकूं
ऐसी है तुमने जिह्वा दी
पर इतने सारे मैं हुनर लिए
विफल सिद्ध न हो जाऊं..
तुमने तो गुण भर दिए बहुत
खुद दोषयुक्त न हो जाऊं..
भूखे बच्चों के पेटों को
कर सकूं अगर तो तृप्त करूँ..
जो बस माथ तुम्हारे चढ़ता हो
वो धवल दुग्ध न हो जाऊं..
इतनी सी रखना कृपा प्रभो
मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं
मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं...
दीपक मशाल
*तस्वीरें बाबा ने ही निकालीं

90 टिप्‍पणियां:

  1. दीपक जी जन्म दिन की बहुत बहुत बधाईया .....

    अच्छी पंक्तिया की रचना की है ........

    कृपया इसे भी पढ़े :-
    क्या आप के बेटे के पास भी है सच्चे दोस्त ????

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपक ,आज तो तुमने एकदम निशब्द कर दिया..तुम्हारा लिखा पढूं या तस्वीरें देखूं या फिर कविता पढूं....तस्वीरों पर से नज़रें तो हटने को तैयार ही नहीं...तो ये राज़ है तुम्हारे good looks का....हम्म...दादाजी एवं दादी जी की तस्वीर तो एकदम पुराने ब्लैक न वाईट फिल्मो के हीरो-हिरोईन सी लग रही है. :)..पिता जी एवं माँ की तस्वीर भी बहुत बहुत प्यारी है...

    पापा का लुक और मम्मी की मासूमियत मिली है तुम्हे.... और दिल की खूबसूरती भी..वो तो रचनाओं में झलक ही जाती है...जब हमेशा चौकस रहोगे...तो आत्ममुग्ध कैसे हो पाओगे...

    जन्मदिन की असीम शुभकामनाएं...जीवन की सारी खुशियाँ तुम्हारी झोली में हों.

    उत्तर देंहटाएं
  3. और इक साल गया, जाने दो!
    उम्र कुछ और बढ़ी, जाने दो!
    तुम सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो,
    कल की दुश्वारियों को...........जाने दो!!!
    सालगिरह मुबारक!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे दीपक ! तुम्हारे पापा की ब्लेक व्हाईट तस्वीर तो एकदम तुम जैसी लगती है.
    बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें हैं .और कविता के तो कहने ही क्या आज तो तुम्हारे ब्लॉग से जाने का मन ही नहीं कर रहा :)
    जन्म दिन की अनगिनत शुभकामनाये .इश्वर तुम्हें हर वो खुशी बक्शे जिसकी तुमने कभी कल्पना भी की है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीपक जी आपको और आपके ब्लॉग को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई.

    आपको और आपके परिवार को फोटो द्वारा जान कर अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बहुत बधाई हो!
    --
    तुम जियो हजारों साल, साल के दिन हों पचास हजार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. tasweeron ke saath padhna bahut achha laga ...papa ki tasweeren her umra ki bahut achhi hain

    उत्तर देंहटाएं
  8. .....पापा की सभी तस्वीरें बहुत अच्छी है.....जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और ढेरो शुभकामनाएं!....और अनेक आशिर्वाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. दीपक जी जन्म दिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  12. जन्मदिन और ब्लॉगदिन पर बधाई।

    @ मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं

    पता नहीं मुझे तो कभी कभी लगता है कि इसके बिना रचा ही नहीं सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरे भैया , एकदम पापा की कॉपी लगते हो ।
    फोटुएं देखकर मज़ा आ गया ।

    जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...परिवार से मिलकर अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  15. शुभकामनायें या बधाई तो बाद की बात है...सबसे पहले तो नज़र गयी तस्वीरों पे..मुझे देख इतना अच्छा लग रहा है, तो आप जब देखते होंगे ये तस्वीरें तो आपको कैसा महसूस होता होगा..समझ सकता हूँ मैं.
    आपकी शक्ल अंकल से मिलती बहुत है...:)

    कविता भी शानदार लिखा है आपने...सब कुछ मस्त है पोस्ट का :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा लगा आके परिवर से मिलकर । एक खाश शेर आपके लिए....
    कौन है जो जिन्दगी में हो गया शामिल कुछ इस तरह । दूर रहकर भी ख्यालों में आ जाता है अक्सर ।। जन्मदिन मुबारक हो ।।।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपके जन्‍मदिन से 365 दिन की एक नई यात्रा फिर से शुरू होती है । आपकी ये यात्रा मंगलमय और खुशियों से भरी हो ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. दीपक ,

    जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें ..जीवन में हमेशा सफल हो और सफलता की हर बुलंदी को छुओ ...

    रही सठियाने की बात तो अभी तुम्हारी मंजिल बहुत दूर है :):)

    उत्तर देंहटाएं
  19. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. अरे दीपक जी पप्पा पर गये हैं आप तो, पूरे परिवार से मिल लिये हम... आपको जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत अच्छा लिखते हो और दिल से लिखते हो सो हर बार अच्छे लगते हो ! शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. जन्मदिन की बधाई व उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ,परिवार से मिलवाने के लिए आभार?

    उत्तर देंहटाएं
  23. जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई ओर शुभकामनायें, खुश रहो, फ़लो फ़ुलो भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. जन्मदिन की बधाई व उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ,
    अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

    दीपक जी, अगर आप इस लेख को अपनी शनिवार के चर्चा मंच में शामिल करने लायक समझे तो कृपया शामिल करे, आपके चर्चा मंच से द्वारा ओशो के शब्दों के प्रचार प्रसार में थोड़ी मदद मिलेगी ....... परन्तु अगर आप ऐसा समझे तो .... आभार

    यहाँ भी आये और अपनी बात कहे :-
    क्यों बाँट रहे है ये छोटे शब्द समाज को ...?

    उत्तर देंहटाएं
  25. दीपक ये तस्वीर तो बहुत सही लगाएँ तुमने. खुद हमने भी अभी तक नहीं देखीं हैं. भाईसाहब तो क्या गज़ब, पिताजी और अम्मा की फोटो तो यादगार है आज की पोस्ट की. सच कहें तो आज तुम्हारी कविता पढ़ी ही नहीं, इन फोटो के चक्कर में.
    जन्मदिन की शुभकामना और आशीष
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  26. मोतियों को एक जगह समेट लिया है आपने...जिंदगी के यादगार लम्हों की तस्वीरें बेहद अच्छी हैं

    उत्तर देंहटाएं
  27. दीपक जी,
    प्यारे दीपक जी !

    आप जैसे कुलदीपक को पाकर आपका परिवार भी धन्य हुआ है.........

    बहुत बहुत बधाई जन्म दिन की भी और ब्लोगिंग में एक साल पूर्ण करने की भी

    सदैव आप स्वस्थ, मस्त और व्यस्त रहें...........यही प्रार्थना परमपिता से...........

    जय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  28. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  29. दीपक,
    जन्म दिन की बहुत -बहुत बधाई..
    आप जैसा बेटा जिनके पास है उन्हें और क्या चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  30. जन्म दिन की बधाई .. ब्लाग के साल पूरे होने की भी बधाई. शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  31. जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...परिवार से मिलकर अच्छा लगा--- ब्लाग के साल पूरे होने की भी बधाई. शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्रिय दीपक ,
    आपकी विनम्रता ही आपका बड़प्पन है , जन्मदिन की बधाईयां पर एक ख्याल ज़रूर शेयर कर लूं , आपके बाबा फिल्मों में कैसे नहीं गये ये सोच रहा हूं ! यूं तो आपका पूरा परिवार (बहनोई समेत) पुरनूर लगा पर पिता जी कुछ ज़्यादा ही क्यूट हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  33. प्रिय दीपक भाई

    Happy Birth Day To You !

    जन्मदिन की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !


    आपके परिवार का परिचय पा'कर बहुत अच्छा लगा ।
    आपके मन से निकली दुआएं स्तुत्य हैं

    इतनी सी रखना कृपा प्रभो
    मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं

    जिस इंसान के सोचने का तरीका यह हो ,उससे कुछ ग़लत हो ही नहीं सकता । बहुत बहुत शुभकामनाएं …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  34. तस्वीरों के जरिये तुम्हारे परिवार से मिलना बहुत अच्छा लगा ...
    कविता उससे भी बढ़िया ...
    जन्मदिन की बहुत बधाई व शुभकामनायें ...!

    उत्तर देंहटाएं
  35. जन्मदिन के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं और बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  36. हमारे एक मित्र ने अपने बॉस के जन्‍मदिन पर उनकी उम्र पूछी, बॉस ने कहा कि चालीस का हो गया हूँ। तो क्‍या उत्तर आया? बताएं। मित्र बोला कि तब तो आप दो कौडी के हो गए हैं। भारत में बीस को एक कोड़ी गिनते थे। ऐसे ही भैया तुमने भी साठ साल का हिसाब लगा लिया। हम तो सठियाने में एक साल ही बचे हैं। इस एक साल का हम बड़ी बेसब्री से इन्‍तजार कर रहे हैं। कोई कुछ कहेगा तो कह देंगे कि भाई सठिया गए अब क्‍या कर लोगे?
    जन्‍मदिन की फिर से बधाई। बस एक नेक सलाह कि तुम भी दो कौड़ी के ना हो जाओ इसके पहले विवाह के बंधन में बंध जाओ। हमारी शुभकामनाएं तुम्‍हारे साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  37. लो जी
    आभार तो माना नहीं, क्योंकि आभार परायों से जताया जाता है। तो माफी किससे माँग रहे हो जी? अपनों से या परायों से। अपनों से माफी मांगी नहीं जाती और परायों से माफी क्या मांगना :) हा-हा-हा

    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें
    पुरानी एल्बम से फोटो देखना मुझे बहुत अच्छा लगता है जी
    पारिवारिक सदस्यों से मिलवाने का धन्यवाद

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  38. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  39. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाये . कृपया इस पंक्तियों को सुधार ले .
    'नाथ शम्भु जो भंज निहारा
    होहि कोऊ इक दास तुम्हारा'

    नाथ शम्भू धनु भंजनिहारा
    होइहे कोऊ एक दास तुम्हारा .

    उत्तर देंहटाएं
  40. जन्मदिन की असीम शुभकामनाएं...जीवन की सारी खुशियाँ तुम्हारी झोली में हों.

    उत्तर देंहटाएं
  41. SORY TO LATE
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  42. पारिवारिक सदस्यों से मिलवाने का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  43. दीपक जी जन्म दिन की बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  44. दीपक भाई, आपके परिवार से मिलकर अच्छा लगा। एक बार पुन: जन्मदिन की बधाई स्वीकारें।
    --------
    प्यार का तावीज..
    सर्प दंश से कैसे बचा जा सकता है?

    उत्तर देंहटाएं
  45. दीपक जी,
    आपको जन्मदिन की ढेरों बधाई और शुभकामनाएं !!

    प्रियजनों का सुन्दर परिचय कराया आपने.!!

    उत्तर देंहटाएं
  46. आपके जन्मदिन और आपके ब्लाग के सालगिरह पर बधाइयां । बस ऐसे ही दीपक और मशाल बनकर रोशनी फैलाते रहिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  47. दीपक तुम्हारे और ब्लोग दोनो के जन्मदिन की हार्दिक बधाईयां और शुभकामनायें………………तुम बिल्कुल अपने पापा जैसे लगते हो………………बहुत ही शानदार तस्वीरें हैं………………ज़िन्दगी मे हर लक्ष्य को प्राप्त करो यही कामना है।

    उत्तर देंहटाएं
  48. @आशीष भाई, बहुत-२ शुक्रिया.. मुझे लग भी रहा था कि कुछ गलत है पर क्या गलत है ये आपने बताया.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  49. Deepak jee!! late se hi sahi.......par mere subhkamnao aur pyar ko kabool karen.......:) sach me aapki aur aapke papa ki black n white photo bilkul ditto lag rahi hai.........!!

    ek baat aur, sach me!! kal mere bete Yash ka bhi janamdiwas tha.......:)

    उत्तर देंहटाएं
  50. आपके परिवार से परिचय पा अच्छा लगा। स्मृतियाँ सहेजने के लिये व उनमें रमने के लिये होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  51. जन्मदिन पर बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  52. @आदरणीय अजित मैम, कोशिश करूंगा की दो कौड़ी का होने से पहले आपकी आज्ञा का पालन कर सकूं.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  53. दीपक पहले तो थर्टी थंडर होने की बधाई, मेरठ गया होने की वजह से थोड़ा लेट हूं...

    इन तस्वीरों में ज़िंदगी का पूरा फ़लसफ़ा छुपा है...सीनियर मशाल सर को सैल्यूट, जैसे वो खुद सुंदर हैं, वैसी ही सुंदर
    रचना (तुम) दुनिया को दी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  54. जन्म दिन की बहुत-बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  55. अपने जन्म दिन पर जो सबसे पहले अपने माता पिता और पुरखों को याद करता है वही अपने जन्म लेने का अर्थ सार्थक करता है ऐसा मेरा मानना है । अब इससे ज़्यदा और क्या कहूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  56. प्यारे दीपक,
    यार बड़ी देर से आपको जन्म दिन की शुभकामनायें भेज रहा हूँ. मशरूफियत की दुहाई तो नहीं दूंगा , लेकिन बस क्या करूँ ये भागम भाग की ज़िन्दगी जो न जाने... खैर बड़ा ही सुखद अहसास लगा ये फोटो देखकर, दादी जी से शायद में नहीं मिला हूँ, बाकी परिवार के सदस्यों से तो आशीर्वाद भी ले चूका हूँ. तुम एक दम पापा पे गए हो.
    बहुत - बहुत मुबारक हो !!!

    उत्तर देंहटाएं
  57. @प्रिय शाहिद,
    अरे मुझे पता है दोस्त.. कहो ना कहो तुम्हारी दुआएं हमेशा मेरे साथ हैं. दादी जी को तो मैं खुद ही प्रत्यक्ष नहीं देख पाया, उन्होंने पापा की शादी से पहले ही इस दुनिया को तज दिया था..

    उत्तर देंहटाएं
  58. इतनी सी रखना कृपा प्रभो
    मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं
    मैं आत्ममुग्ध न हो पाऊं...

    दीपक जी जन्मदिन के अवसर पे इतनी अच्छी नज़्म .....
    ईश्वरसे आज के दिन अपने लिए ऐसी अभिलाषा तो शायद ही कोई करता हो .....
    तसवीरें भी देखी .....
    आपके पापा की बचपन और युवावस्था की तसवीरें बहुत सुंदर हैं .....बाद की तस्वीर में समय की मार सी लगी ....
    सोचती हूँ वक़्त किस प्रकार इन्सान को बदल देता है .....
    आप शायद माँ पर हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  59. दीपक जी देर से आया भाई माफ़ करना, जन्मदिन की हार्दिक बधाई..और हाँ कविता तो अच्छी आपकी हमेशा ही होती है उसकी ज़्यादा तारीफ नही करूँगा पर इस बात के लिए शुक्रिया अदा करना चाहूँगा कि जन्मदिन के ऐसे खास अवसर पर अपने सभी प्रियजनों से मुलाकात करवाया आपने....अच्छा लगा...धन्यवाद जी

    उत्तर देंहटाएं
  60. आपने अपनी एक अलग पहचान बनायी है दीपक... आप कामयाब हैं ! हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  61. दीपक सर जी जन्मदिन की शुभकामनायें तो मैने आपको फेसबुक पर दे दी और एक १२३ ग्रीटिंग कार्ड भी भेजा है पर आपने उसे अभी तक खोला नहीं है. :)
    आपके अपनों की तस्वीरें देखी. अच्छा लगा. :) दादा जी ,दादी जी और आपके माता पिता को प्रणाम. एवं आप सभी को स्नेह भरा नमस्कार. देव जी की उम्र अब क्या है ? उसे बहुत सारा प्यार :)
    अपना ख्याल रखिये और सदा खुश रहें.
    रोशनी

    उत्तर देंहटाएं
  62. देर से पहुँचने का अफ़सोस है.....

    आपको जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएं
    आपका जन्मदिन के खास अवसर पर अपने संयुक्त परिवार के कुछ सदस्यों से सचित्र पहचान कराना बेहद अच्छा लगा ......आप सभी सदा खुश और सुखी रहें यही हमारी शुभकामनाएँ हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  63. alas....i cudnt see ur b'day....nyways...."HapY Birthday too u"..........alright belated......

    उत्तर देंहटाएं
  64. वाह ... दीपक जी बहुत अच्छा लगा आपके परिवार से मिलना ....
    आपको जन्म दिन की शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  65. दीपक जी जन्म दिन की बहुत बहुत बधाईया

    अच्छी पंक्तिया की रचना की है

    उत्तर देंहटाएं
  66. दीपक जी,

    देर से पहुंची लेकिन पहुँच तो गयी, मेरी हार्दिक शुभकामनाएं, इसी तरह से साल दर साल और प्रखर हो कर अपने लेखन के तेज से सबको चकाचौंध करते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  67. जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  68. शुभकामनाएं...बहुत सुन्दर..............

    उत्तर देंहटाएं
  69. जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...परिवार से मिलकर अच्छा लगा. आप हमारे ब्लोग पर आये इसका बहुत बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  70. दीपक मेरा कमेन्ट कहाँ गया मैने तो सब से पहले बधाई दी थी। चलो आज दोबारा कहती हूँ जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई और आशीर्वाद। तस्वीरें बहुत अच्छी हैं पूरे परिवार को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  71. आपके परिवार से मिल कर बहुत प्रसन्नता हुई. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  72. Aapke parivar ki sunder tasvire...

    bahot hi sunder likha hai aapne.....

    God Bless You....

    उत्तर देंहटाएं
  73. स्मार्ट फैमिली !!!
    आप के परिवार में कोई ऐसा है भी जो थोडा सामान्य लगता हो , आप का तो पूरा परिवार बालीवुड परिवार लगता है . इतने सुन्दर लोग पीडिओं से एक ही घर में पैदा हो रहे हैं तो भैया हम लोग कहाँ से स्मार्ट होते . बुरा मत मानियेगा क्यों की मैं आप के दोस्तों में भी नहीं हूँ पर फिर भी आप की फैमिली के बारे में लिखने से खुद को नहीं रोक पाया , आप सच में एक सुन्दर से परिवार के सदस्य हैं ,और हाँ आप के पापा का तो जबाब नहीं ही इज द मोस्ट हैण्डसम परसन इन योरफैमिली

    उत्तर देंहटाएं
  74. लेखन के लिये “उम्र कैदी” की ओर से शुभकामनाएँ।

    जीवन तो इंसान ही नहीं, बल्कि सभी जीव जीते हैं, लेकिन इस समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार, मनमानी और भेदभावपूर्ण व्यवस्था के चलते कुछ लोगों के लिये मानव जीवन ही अभिशाप बन जाता है। अपना घर जेल से भी बुरी जगह बन जाता है। जिसके चलते अनेक लोग मजबूर होकर अपराधी भी बन जाते है। मैंने ऐसे लोगों को अपराधी बनते देखा है। मैंने अपराधी नहीं बनने का मार्ग चुना। मेरा निर्णय कितना सही या गलत था, ये तो पाठकों को तय करना है, लेकिन जो कुछ मैं पिछले तीन दशक से आज तक झेलता रहा हूँ, सह रहा हूँ और सहते रहने को विवश हूँ। उसके लिए कौन जिम्मेदार है? यह आप अर्थात समाज को तय करना है!

    मैं यह जरूर जनता हूँ कि जब तक मुझ जैसे परिस्थितियों में फंसे समस्याग्रस्त लोगों को समाज के लोग अपने हाल पर छोडकर आगे बढते जायेंगे, समाज के हालात लगातार बिगडते ही जायेंगे। बल्कि हालात बिगडते जाने का यह भी एक बडा कारण है।

    भगवान ना करे, लेकिन कल को आप या आपका कोई भी इस प्रकार के षडयन्त्र का कभी भी शिकार हो सकता है!

    अत: यदि आपके पास केवल कुछ मिनट का समय हो तो कृपया मुझ "उम्र-कैदी" का निम्न ब्लॉग पढने का कष्ट करें हो सकता है कि आपके अनुभवों/विचारों से मुझे कोई दिशा मिल जाये या मेरा जीवन संघर्ष आपके या अन्य किसी के काम आ जाये! लेकिन मुझे दया या रहम या दिखावटी सहानुभूति की जरूरत नहीं है।

    थोड़े से ज्ञान के आधार पर, यह ब्लॉग मैं खुद लिख रहा हूँ, इसे और अच्छा बनाने के लिए तथा अधिकतम पाठकों तक पहुँचाने के लिए तकनीकी जानकारी प्रदान करने वालों का आभारी रहूँगा।

    http://umraquaidi.blogspot.com/

    उक्त ब्लॉग पर आपकी एक सार्थक व मार्गदर्शक टिप्पणी की उम्मीद के साथ-आपका शुभचिन्तक
    “उम्र कैदी”

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...