गुरुवार, 14 अक्तूबर 2010

गुरु गुलज़ार साब से मुलाक़ात------>>>दीपक 'मशाल'



कब से इक तमन्ना 

दिल में दबी हुई थी..
तुम चिंगारी कह रहे हो
पूरी आग लगी हुई थी..
सरदार संपूर्ण सिंह जी याने गीतों और नज्मों के सरताज सबके दिलों पर राज करने वाले आदरणीय गुलज़ार साब... एक ऐसी शख्सियत जो ना सिर्फ नज़्म, ग़ज़ल या गीत के मामले में बल्कि फ़िल्मकारी, निर्देशन और कहानी लेखन में भी माउंट एवरेस्ट कहे जा सकते हैं. जिनसे मिलने के लिए मैं इस बार दिसंबर में भारत जाने पर उनके एक करीबी पारिवारिक मित्र के मार्फ़त उनसे मिलने की योजनायें बना रहा था... 
आदरणीया दिव्या माथुर जी के साथ 
जिनको हमेशा लेखन में अपना आदर्श मानता रहा हूँ.. उनको विगत शनिवार तारीख ०९.१०.१० को अपने सामने पाया... लगा कि कुआँ स्वयं प्यासे के पास चला आया.. राजा आया है रंक से मिलने.. चांदनी को ओढ़े हुए, हिमालय जैसे ही सफ़ेद कुरता और पेंट एवं जरी वाली सुनहरी जूतियाँ पहने हुए वो मेरे जैसे जाने कितनों के खुदा मेरी आँखों के सामने थे.. इन्हीं आँखों के सामने जो आज ये पोस्ट लिखते वक़्त की-बोर्ड को निहार रही हैं.. जब वो स्टेज पर थे तो मैं उनकी छवि को आँखों में उतारने के बाद कैमरे में समेटने में लगा रहा.. बाद में खाने के वक़्त 2010 की अप्रवासी मैथिलीशरण गुप्त सम्मान से सम्मानित प्रतिष्ठित साहित्यकार आदरणीया दिव्या माथुर जी, जिनका हमेशा ही मुझपर पुत्रवत स्नेह रहा है, ने श्री गुलज़ार साब से मेरा परिचय कराया.. उनकी चरण रज पाकर अपने को धन्य भाग्य ही समझ रहा हूँ.. उनसे क्या बात हुई? क्या लेना देना हुआ वो सब बाद में पहले अभी सिर्फ वो चंद पंक्तियाँ जो उन्हें देखते ही मन से फूट पड़ीं.. शिल्प या शब्द सौंदर्य तो नहीं है इनमे मगर सिर्फ भाव के लिए शबरी के बेर की तरह चख लीजियेगा..

परदेस में ही सही 
पूरा मेरा इंतज़ार हुआ है
डर था
कहीं खारों के दरमियाँ ही
ना बीत जाए ज़िन्दगी..
तुम आये तो
गुलशन ये 'गुलज़ार' हुआ है..

कुछ ज़िदें हो गयीं थीं ढीठ इतनीं
उन्हें कितना ही दिखलाता बाहर का दरवाज़ा
मगर बारहा आ धमकती थीं दबे पाँव
जाने किस फ़िराक में..

उन्हीं ज़िदों में से एक तो थी 
तुमसे मिलने की ज़िद 
ख्वाहिश होती तो फिर भी समझा ही लेता

खैर.... अब वो ज़िद भी ज़िन्दा ना रही 
रहती भी क्यों भला?
उसकी आख़िरी तमन्ना जो पूरी हो गई
तुम आ गए हो ना चांदनी के लिबास में..

वैसे ये कुछ ज्यादा ही हो गया लेकिन फिर भी विशाल भारद्वाज से उनके करीबी रिश्तों को लेकर ये त्रिवेणी भी उपजी-

डर है सुलगकर ख़ाक ना हो जाऊं
शोला ही रहूँ मैं राख ना हो जाऊं

औरों से तेरी नजदीकियाँ, बहुत जलाती हैं मुझे..
दीपक 'मशाल'
११.१०.१० को एक बार फिरसे उनसे मिलने का मौक़ा मिला तभी ये वीडिओ भी बनाया.--
 

47 टिप्‍पणियां:

  1. काफी दिन से नज़र नहीं आ रहे आये तो कुछ नया सा लेकर. गुलज़ार साहब से मिलने का असीम अनुभव आपने बता ही दिया है. शबरी के बेर भी बहुत अच्छे लगे. बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुलज़ार साहब के क्या कहने...आप धन्य हैं कि उनका आशीर्वाद आपको मिला...उनके साथ रहेंगे तो इस तरह की सुंदर कविताएं तो मन से निकलेंगी ही

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही आप सौभाग्यशाली है की आपकी मुलाकात गुलज़ार जी से हुई ... बहुत ही प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. उस दिन ये गीत चल रहा था ----"तुम जो मिल गए हो तो ये लगता है के जहां .....मिल गया" ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह आप तो काफी खुशकिस्मत निकले | मै तो देखने भर की तमन्ना लिए हु आप दो बार मिल आये अब तो हमें जलन हो रही है आप से | मुझे उनकी फिल्मे भी काफी पसंद आती है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरमान निकल कर घर से कोई
    चला आया था
    आसमान में देखा कोई तारा फिर टूटा था ...
    how lucky u r....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही आप सौभाग्यशाली है की आपकी मुलाकात गुलज़ार जी से हुई ... बहुत ही प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत-बहुत
    बहुत-बहुत
    बहुत-बहुत
    .............
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम्हारी इस पोस्ट का इंतज़ार था...
    सुन्दर रचनाएं कर डालीं...
    अगली पोस्ट में कुछ और संस्मरण लिख डालो, मय तस्वीरों के

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुम भी आने वाली पीढ़ी के लिए किसी एवरेस्ट से कम नहीं हो.
    आशीर्वाद.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या हालत बना ली है
    कुछ लेते क्यों नहीं...
    बधाई हो..
    गुलजार साहब से मिलने का सौभाग्य मिला आपको

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खुब जी , आज खुश कर दिया, आप को दुर्गाष्टमी की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. The moments to cherish for life time

    -आनन्द आ गया देख, सुन, पढ़ कर...

    बहुत बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छा लगा देख , पड़ कर ......भाग्य के धनी है आप !
    बधाईयाँ .

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस माननीय हस्ती से मिल सके यह जानकर अच्छा लगा....
    बाकी रश्मि रविजा जी का कहना सही है.... आगे ऐसे ही संस्मरण वाली पोस्ट का इंतजार रहेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  16. वे तो हमें भी अच्छे मतलब बहुत अच्छे लगते हैं पर आप मिल पाये :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपके फेसबुक प्रोफाइल पे तो कल रात ही देख लिया था सारे फोटो...आज सब पढ़ देख बड़ा अच्छा लगा...
    त्रिवेणी खासकर...
    सब कुछ अच्छा है...
    बहुत सुन्दर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम तो मुंबई में रह कर पिछड़ गये ,आप ने बाजी मार दी ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बहुत बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  20. निसंदेह जिसे आप इतना पसंद करते हैं,दिल में एक खास जगह उनके लिए रखते है उनसे मिलना सुखद होता है.गुलज़ार जी के नाम को मात्र पढ़ कर मैं उनकी फिल्म्स देखने चली जाती थी और उनकी हर फिल्म को मैंने देखा.किसी खूबसूरत कलाकृति सी होती थी उनकी फिल्म्स और उनके लिखे गीत एक अलग ही पहचान रखते हैं.और लिखना क्या क्या बाते हुई.प्यार

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बहुत बधाईयां। अब ज़िन्दगी से कभी गिला नही करना क्यों कि जो तुम सच्चे दिल से चाहते हो मिल जाता है। आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ये तो सिर्फ़ ट्रेलर लगाया है अभी दिल नही भरा………………पूरा संस्मरण लगाना और बहुत बहुत बधाई
    आखिर मुलाकात तो हुयी
    कुछ दिल की बात तो हुयी
    कुछ अरमान तो निकले
    बस थोडे कम निकले

    उत्तर देंहटाएं
  23. ...ऐसी उमदा शख्सियत से मुलाकात होना, अहोभाग्य है आपका दिपकजी!...पिछ्ले चार दशकों से गुलजार साहब जनता के दिलों पर राज कर रहे है!...उनका आशिर्वाद पा कर आप भी जीवन में बहुत तरक्की करें...यही हार्दिक शुभेच्छा!

    उत्तर देंहटाएं
  24. भई हमे तो मज़ा आ गया । खुशी प्रकट करने के लिए तो शब्द ही नहीं हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. गुलजार साहब की बात ही निराली है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. विश्‍व हिन्‍दी सम्‍मेलन न्‍यूयार्क में गुलजार साहब से मुलाकात हुई थी। वे पूरे तीन दिन सम्‍मेलन में रहे थे। उनकी कविता भी सुनने को मिली थी। उनका व्‍यक्तित्‍व बहुत ही प्रभावित कर गया था। इतनी सादगी कि कोई भी उनके साथ फोटो खिंचाए या बाते करे, उनकी मुस्‍कराहट कम नहीं होती थी। आपने उनसे मुलाकात की, वास्‍तव में वे क्षण बहुत अनमोल होंगे। आपको बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  27. गुलज़ार साहब के गीतों को कोई ज़वाब नहीं । बधाई इस मुलाकात के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. आदरणीया अजित मैम,
    आपने बिलकुल सच कहा.. उनकी सादगी तो ऐसी है कि बस कोई भी प्रभावित हुए बिना ना रह पाए.. खुशी हुई कि कार्यक्रम के २-३ दिन बाद भी उन्होंने याद रखा इस नाचीज़ को साथ ही उनके जो स्कैच मैंने बनाये थे और 'अनुभूतियाँ' की एक कॉपी अपने साथ मुंबई ले गए.. धन्य महसूस कर रहा हूँ.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  29. दीपक भाई, बहुत बहुत बधाई। ऐसा दुर्लभ क्षण बहुत कम लोगों के जीवन में आता है।

    उत्तर देंहटाएं
  30. वाह !!क्या बात है आपके जरिये ही उन्हें जान लेंगे हम

    उत्तर देंहटाएं
  31. उफ्फ!!! मैं तो जल भुन कर ख़ाक हुआ जा रहा हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  32. बस दिल में तमन्ना हो, मंजिलें मिल ही जाती हैं !

    बहुत बहुत बधाई ! और आप भी जनाब फोटो में झकास (superb) लग रहे हों :)

    उत्तर देंहटाएं
  33. देखना सुनना पडःअना सब सुंदरतम.

    दुर्गा नवमी एवम दशहरा पर्व की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  34. दीपक भाई, आपको भी विजयादशमी की शुभ कामनाएं, और धन्यवाद आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत सुन्दर संयोग मिला और वो सपना था तो साकार हुआ. ऐसे सपने रोज सच होते रहें ऐसी कामना है और इस बारे में और पढ़ने कि इच्छा है.

    उत्तर देंहटाएं
  36. aapne gulzar sahab se hui mulakat ko behad khubsurat shabdo me likha hi and aapko unse hui mulakat k leye bahut badhaye

    उत्तर देंहटाएं
  37. दीपक, आपके अनुभव पढ़ कर मुझे इस वर्ष जयपुर के साहित्य सम्मलेन और इस्मत और मंटो पर दो दिनी दिल्ली में हुए सम्मलेन की याद ताज़ा हो आई. सच, उनकी सादगी और उनका अंदाज़ सामने वाले को मोहित किये बिना नहीं छोड़ता. सौभाग्य है कि उनसे मुलाकात हुई और कुछ बात हुई.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...