शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

बेलफास्ट(यू.के.) में पहले हिन्दी कवि सम्मलेन की झलकियाँ और अन्य तस्वीरें-------->>>दीपक मशाल

आज सोच रहा था कि जैसा आपसे कल कहा था कल रात के कवि-सम्मलेन की रिपोर्ट दे दूँ आपको.. लेकिन लगता है कि आज शाम से पहले समय नहीं मिल पायेगा.. तब तक कवि सम्मलेन की झलकियाँ और अन्य तस्वीरें देखिएगा... महेंद्र अजनबी जी और गजेन्द्र सोलंकी जी के कारण आपके इस अनुज को भी साथ में कविता पाठ का मौका मिला, वहाँ तो नहीं कह पाया लेकिन यहाँ उनका आभार प्रकट करता हूँ... :)
अगर आप सुन्दर तस्वीरें देखने के शौक़ीन हैं तो तस्वीरों पर चटका करके उन्हें बड़ा करके देखिएगा.. बन्दे की हौसलाअफजाई होगी और आपकी ज़रा सी मेहनत..
बुश मिल्स, बेलफास्ट.. (आपने बुश मिल्स व्हिस्की
का नाम  तो सुना  ही होगा...  इसी जगह बनती है)
जाइंट कॉजवे, उत्तरी आयरलैंड(यू.के.)
यूँ ही जाइंट कॉजवे के प्रवेश द्वार के बाहर से लिया 
ये भी बाहर से ही लिया 
अब थोड़ा और अन्दर की ओर बढ़े जाइंट कॉजवे
के विश्व प्रसिद्द षटकोणीय पत्थर देखने 
और नज़दीक पहुंचे 
रास्ते से ऊपर की तरफ देखा 
पहुँच गए.. हुर्रे...
अब उनके बिलकुल करीब से 
उन्हीं के ऊपर बैठ कर कुछ आगे की तस्वीर ली 
अगल-बगल की 
थोड़ा सा आगे की 
पत्थरों का आकार दिखाने
के लिए अपने पैरों के नीचे की
भी तस्वीर ले ली भाई..
दूसरी तरफ जाते वक़्त एक और उतार ली.. :)
महेंद्र अजनबी जी(दिल्ली) और
शशि तिवारी जी(आगरा) के साथ 
कवि सम्मलेन प्रारंभ होने से कुछ क्षण पहले
बाएँ से दाएँ- गजेन्द्र सोलंकी जी, महेंद्र अजनबी जी,
तीन बार के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष(उत्तर प्रदेश)
और कार्यक्रम के भी अध्यक्ष केशरी नाथ त्रिपाठी जी,
रामेन्द्र त्रिपाठी जी, शशि तिवारी जी, शिवरंजनी जी..
हो गई शुरुआत..
अंत में लोर्ड राणा और लेडी राणा कवियों से मिलती हुईं
सबसे बाएँ यहाँ के आई.सी.सी.(इंडियन कम्युनिटी
सेंटर) के प्रमुख और कार्यक्रम के आयोजक अशोक शर्मा जी 
रामेन्द्र जी के साथ 
केशरी नाथ जी को कई लोगों ने घेर रखा था
फिर भी अच्छा लगा कि उन्होंने इस बन्दे
की कविता के बारे में बात की..
सभी कवि और ये अनाड़ी
इंटरप्रेंयोर लोर्ड और लेडी राणा के साथ  
भाई गजेन्द्र जी शादीशुदा नहीं इसलिए
सोने  और कविता पढ़ने के अलावा बाकी टाइम
फोन पर बतियाते रहते हैं किसी से.. :)
दीपक मशाल

35 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर तस्वीरे ....एक से बढ़कर एक ....आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीरें.... दीपक तुम्हारी बात ही अलग है... हैण्डसमनेस विद ब्रेन...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीरें

    Thanx Mr. "SuperMan"

    उत्तर देंहटाएं
  4. तस्वीरे बहुत खूबसूरत हैं पर इनके नीचे परिचयात्मक सा कुछ लिख देते तो और भी अच्छा लगता !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर्म शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. .सुपर मैन दीपक...आई मीन सुपरमैन टी शर्ट वाले दीपक .....तस्वीरें तो बहुत सुन्दर हैं..
    सुन्दर दृश्यों की भी और तुम्हारी भी नामचीन कवियों के साथ

    रिपोर्ट का इंतज़ार रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी पोस्ट पढ़कर बड़ी प्रसन्नता हुई की विदेशों में भी हिंदीभाषी कवि सम्मेलन आयोजित किये जाते हैं . बेलफास्ट में सम्पादित हुए कवि सम्मेलन की जानकारी देने के लिए धन्यवाद. फोटो बहुत सुन्दर लगाये हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वैसे गजेन्द्र सोलंकी दिल से पढते हैं
    अच्छी तश्वीरे हैं, बहुत बढिया

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. पूरा का पुरा दृश्य नैटजिओ जईसा बुझा रहा है..मनोरम!!अऊर ऊ का कहते हैं एगो बहुत अच्छा सब्द है,यादे नहीं आ रहा है...हाँ याद आया,नयनाभिराम!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुबसूरत वादियों के बीच कवि सम्मेलन का आनंद बेहद सुखद हुआ होगा... है ना दीपक जी...!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर तरह से खुशनुमा कवि सम्मलेन...
    तसवीरें, मौसम , मौका, दस्तूर और लोग....
    बेहद्द खूबसूरत लगा है सबकुछ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाकई बहुत खूबसूरत तस्वीरें हैं, बधाई हो दीपक। अली सा की टिप्पणी से सहमत, कैप्शन और दे देते तस्वीरों के नीचे तो और बेहतर रहता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीरें..........

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत दृश्‍य
    सूरतें सभी खुश
    हम भी हुए खुश
    रंभा हो
    रंभा हो
    हो हो हो

    उत्तर देंहटाएं
  15. अली सर और संजय जी आपके आदेश का पालन हुआ... प्रिय दिलीप कल वीडिओ लगाने का भी जुगाड़ करता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. Yeah, बढ़िया झलकियाँ दीपक जी किन्तु ये "लोर्ड राणा और लेडी राणा" शब्द जरा अखरे ! :) इस युग में भी ये लोर्ड लोग ...???

    उत्तर देंहटाएं
  17. माइक वाला तो देखा दिये, अब कैमरा वाला सुनवाइये । खुशी मॆं सब उल्टा लिख दिये हैं,ठीक करके पढ़ लीजियेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. @गोदियाल सर, ये हमारे यहाँ के ही श्री दिलजीत राणा हैं जिन्होंने यहाँ पर अपना औद्योगिक साम्राज्य खड़ा किया और अपनी पैठ बनाई.. ऐसे लोगों को महारानी की तरफ से लोर्ड्स की उपाधि दी जाती है.. चाहे वो किसी भी देश से हों.. और अभी तक हाउस ऑफ़ लोर्ड्स भी है लन्दन में... अब ये जीवन पर्यंत लोर्ड माने जायेंगे और इनकी पत्नी श्रुति राणा जी लेडी राणा कहलायेंगी..

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुन्दर चित्र कवियों के साथ, बहुत ही सुन्दर कवि भी

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये तो बहुत सुन्दर प्रदर्शनी लगा दी……………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  21. ये तो बहुत सुन्दर प्रदर्शनी लगा दी…………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. शुक्रिया इसे हमारे साथ शेयर करने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  23. हमारा कमेन्ट कहाँ गुम हो गया भई??

    उत्तर देंहटाएं
  24. वाह .... मज़ा आ गया इस कवि सम्मेलन के बारे में जान कर ... और आकेचीत्र जो बेमिसाल हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. Kya baat hai ....chha gaye aaz to ...
    tasveeren bhi aur tum bhi.

    उत्तर देंहटाएं
  26. काफ़ी दिनों से मै भी बेल्फ़ास्ट जाने का सोच रहा था, कुछ मित्र हैं वहां जो बुलाते रहते हैं, आपकी तस्वीरें देख के सोचता हूँ कि हो ही आऊं.. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीरें....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...