शुक्रवार, 13 अगस्त 2010

तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है--------->>>दीपक मशाल






मेरे घर की दीवालों ने बातें करना सीख लिया है 
गूंगे कमरे के आलों ने कुछ-कुछ कहना सीख लिया है
अब उतना भी ना तन्हा होता जब मैं तन्हा होता हूँ..
तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है

अंधियारे कमरे में जब भी चंद किरण कोई आती है              
जाने उसकी शीतल धारा मन को क्यों दहलाती है
दहलीज़ छोड़ तुम गए थे तो क्या लक्ष्मण रेखा खींच गए 
इक आँगन इक कमरे में ही जीना मरना सीख लिया है
तन्हाई ने मेरी मुझसे.....

बेफिक्र हुआ है मन भी तन भी हो ज्यों पिंजर से छूट गया 
जाने क्या-क्या माना मुझसे जाने क्या-क्या रूठ गया
दिल के घर में जब से उसका आना-जाना बंद हुआ  
सर्दीली रातों ने मुझपे कम्बल ढंकना सीख लिया है 
तन्हाई ने मेरी मुझसे.....

रंगीन रंग ये जाने कैसे मिलके दीख रहे हैं अब
लाल गुलाबी नीले पीले ये काले दीख रहे हैं सब
चाहे जो हो मीठा खट्टा स्वाद कोई भी कैसा हो
सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है 
तन्हाई ने मेरी मुझसे.....
दीपक मशाल 

46 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपक भाई,
    कैसे लिख जाते हो यार ऐसा सब..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया दीपक ! पर ये शीतल गर्मी कैसी होती है :)
    बहुत अच्छा लिखा है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाहे जो हो मीठा खट्टा स्वाद कोई भी कैसा हो
    सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है

    वाह , बहुत खूब ।
    जिंदगी सब कुछ सिखा ही देती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. aapke liye 50-100-500 post ka aankda koi mayne naa rakhta ho fir bhi
    meri taraf se aapko 100 bi post par hardik badhai evam shubh-kamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  6. दीपक,
    आज की नज़्म रूह मे उतर गयी है।

    ज़रा देखो तो
    अब उतना भी ना तन्हा होता जब मैं तन्हा होता हूँ..
    तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है

    कितना गहरा उतर गये हो यहाँ पर ……………।खासकर इस पंक्ति मे…………………"तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है
    " ये पंक्ति अपनी खामोशी मे ही बहुत कुछ कह रही है।

    अब ये देखो

    अंधियारे कमरे में जब भी चंद किरण कोई आती है
    जाने उसकी शीतल गर्मी मन को क्यों दहलाती है
    दहलीज़ छोड़ तुम गए थे तो क्या लक्ष्मण रेखा खींच गए
    इक आँगन इक कमरे में ही जीना मरना सीख लिया है

    उफ़ …………पीडा छलक छलक जा रही है……………मौन की पीडा का कैसा सजीव चित्रण किया है।

    और यहाँ गौर फ़रमाओ

    रंगीन रंग ये जाने कैसे मिलके दीख रहे हैं अब
    लाल गुलाबी नीले पीले ये काले दीख रहे हैं सब
    चाहे जो हो मीठा खट्टा स्वाद कोई भी कैसा हो
    सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है

    उफ़ ……………क्या कहूँ इसके लिये ……………यहाँ तो शब्द खुद बोल रहे हैं और मैं निशब्द हो रही हूँ।

    ये तुम्हारी अब तक की सबसे अच्छी रचना लगी मुझे………………बेहतरीन , लाजवाब, शानदार ………………बस अब और शब्द नही है मेरी डिक्शनरी में।

    उत्तर देंहटाएं
  7. तन्हाई ने मेरी मुझसे....
    तन्हाई बहुत कुछ सिखा देती है
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेफिक्र हुआ है मन भी तन भी हो ज्यों पिंजर से छूट गया
    जाने क्या-क्या माना मुझसे जाने क्या-क्या रूठ गया...

    क्या बात है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दीपक,
    कई दिन से तुम्हारी अनुपस्थिति महसूस हो रही थी। सब ठीक तो है?
    पोस्ट पूरी नहीं दिखाई दे रही है। ऊपर का काफ़ी हिस्सा दिखता नहीं है। जितनी दिखी, अच्छी लगी।
    जिसने तन्हाई के साथ जीना सीख लिया, वो कुछ भी झेल जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत परेशान हूँ ई मेल नही खुल रहा। सुबह पास वर्ड चेन्ज किया था उसके बाद एक बार खोला भी मगर दोबारा नही खुल रहा। कुछ मदद करो।

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिंदगी की पाठशाला सबसे उत्तम पाठशाला होती है. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. चाहे जो हो मीठा खट्टा स्वाद कोई भी कैसा हो
    सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है

    बहुत कुछ अनुभवों से सीख लिया जाता है ..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  13. अभी यही तुम्हारी जीटॉक की प्रोफाईल पर पढ़ रहा था...एक अलग सा प्रयोग मगर बढ़िया. अच्छी लगी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है!

    कमाल कि पंक्तियाँ है, बहुत ही सुन्दर, बेहतरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  15. @दीपक जी
    शर्त लगा सकती हूँ एक भाव मन में आया होगा और कलम अपने आप चल पड़ी होगी .. मन से निकली ,मन छोटी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. सोनल जी आप बिना लगाये ही शर्त जीत गयीं.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. उफ, यह तनहाई अकेला कहाँ छोड़ती है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह वाह जी कविता बहुत पसंद आई.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है
    सुन्दर कविता है दीपक जी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है
    bindaash
    bahut kuch kah gaye aap to........

    उत्तर देंहटाएं
  21. काफी अच्छा लिखते हैं आप....रचना बहुत अच्छी है

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह दीपक भाई-कमाल कर दिया,सुंदर शब्दों का ताना-बाना
    नागपंचमी की बधाई
    सार्थक लेखन के लिए शुभकामनाएं-हिन्दी सेवा करते रहें।


    नौजवानों की शहादत-पिज्जा बर्गर-बेरोजगारी-भ्रष्टाचार और आजादी की वर्षगाँठ

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह दीपकजी, हमने भी बहुत कुछ "सीख लिया है"।

    उत्तर देंहटाएं
  24. सबके ऊपर इस जिह्वा ने कड़वा चखना सीख लिया है ...
    तन्हाई ने ये अहसान किया है ....
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल ...!

    उत्तर देंहटाएं
  25. दीपक ....ग़ज़ब ढ़ा दिया.... बिलकुल अनूठा प्रयोग है.... एकदम दिल को छू गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  26. kकडवा चखना सीख लिया? इस बार आये तो करेले खिलाऊँगी। अच्छी लगी रचना । खुश रहा करो। आशीर्वाद। हाँ तुम्हें मेल की थी उसका जवाब नही दिया मगर प्रबलम साल्व हो गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    उत्तर देंहटाएं
  28. दीपक भाई...

    ऐसा क्या हो गया है भाई...
    जो तुम इतने तनहा हो...
    हमसे मित्र हैं जब तक तेरे...
    मित्र कहाँ तुम तनहा हो...

    वैसे कविता बहुत ही सुन्दर लिखी है...
    लीजिये आज से हम भी आपके पीछे लगे.....(अनुसरंकर्ता बने...)
    और हाँ....लन्दन में नेहरु सेंटर में कहानी पठन की हार्दिक बधाई...
    शिखा जी की पोस्ट पर मेरी टिपण्णी अवश्य पढ़ें....

    दीपक.....

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह , बहुत खूब
    एकदम दिल को छू गयी

    उत्तर देंहटाएं
  30. अब उतना भी ना तन्हा होता जब मैं तन्हा होता हूँ..
    तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है

    सुंदर अभिव्‍यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  31. वाह जी क्या बात है...ये तन्हाई का रंग भी अच्छा लग रहा है.
    बहुत अच्छा लिखा है.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  32. Sachmuch behad khubsurat abhivyakti dil ki gahraiyon se nikali ....gaharaiyon me samajaati hai...bahut bahut pasand aai aapki yah rachana!
    Shubhkaamnaae

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत बढिय़ा सरकार.......... मेरी तन्हाई ने मुझसे चुहलें करना सीख लिया है।
    स्वाधीनता दिवस की बधाई हो आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत ही खूबसूरत रचना ........स्वतंत्रता दिवस कि ढेर सारी शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  35. विकट परिस्थितियों में भी धैर्य से काम लेने की शिक्षा आपने इस रचना में दी है!....सुंदर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  36. सुन्दर अति सुन्दर ,स्वन्त्रता दिवस की बधाई ,जय हिन्द .

    उत्तर देंहटाएं
  37. प्रिय दीपक ,

    दीवारें , आले और मै ? भला फिर तन्हा कैसे ? यही देख चुहलें करती तन्हाई ! उसे पता है सारी सृष्टि श्याम रंग की पृष्ठभूमि में रची बसी और पली बढ़ी है !
    अंतरिक्ष में यही चुहल है , कमरे जैसी ! वही मौन है इस आले सा और संदेशे मेरे जैसे !

    कविता हमेशा शिल्प के अंदर हो ये ज़रुरी नहीं है बस वो उतना कह पाये जो उसे कहने के लिए कहा गया हो ! काफी है ! मेरे हिसाब से सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  38. दर्द में भीगी एक नज़्म...क्या क्या सीखा दिया इस तन्हाई ने.....पर अब बस इसका काम ख़त्म ...अब जल्दी से ये तन्हाई दफा हो जाए..और एक खुशनुमा गीत लिख डालो..यही दुआ है

    उत्तर देंहटाएं
  39. Vandana jee ne sahi kaha, ab hamare pass to shabdo ki kami hoti hai.......islye unke kahi baato ko hi ditto kar raha hoon.......:)

    bahut saandaaar rachna........:)

    उत्तर देंहटाएं
  40. मेरे घर की दीवालों ने बातें करना सीख लिया है
    गूंगे कमरे के आलों ने कुछ-कुछ कहना सीख लिया है

    तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है

    बहुत खूब दीपक जी .... तन्हाई क सहारा मिल जाए तो जीवन आसान हो जाता है .. लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  41. मेरे घर की दीवालों ने बातें करना सीख लिया है
    गूंगे कमरे के आलों ने कुछ-कुछ कहना सीख लिया है
    अब उतना भी ना तन्हा होता जब मैं तन्हा होता हूँ..
    तन्हाई ने मेरी मुझसे चुहलें करना सीख लिया है


    अंधियारे कमरे में जब भी चंद किरण कोई आती है
    जाने उसकी शीतल धारा मन को क्यों दहलाती है
    दहलीज़ छोड़ तुम गए थे तो क्या लक्ष्मण रेखा खींच गए
    इक आँगन इक कमरे में ही जीना मरना सीख लिया है
    तन्हाई ने मेरी मुझसे.....


    दीपक जी
    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल कही है... एक-एक लफ़्ज़ बेहद उम्दा....

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत खूब.. तन्हाई ने मेरी मुझसे...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...