शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

दुश्मनी के उत्तराधिकार---------->>>दीपक मशाल

दुश्मनी के उत्तराधिकार

अंधेरों की बेलों से बाँध
थमा दिए गए इंसान को..
जिन्हें बैलगाड़ी के
लोहे से बंधे
सख्त पहियों की मदद से
खींच रहा है नया युग..


रफ़्तार पकड़ते
स्वचालित वाहनों की दौड़ में
हम मन के कसैलेपन के
मरगिल्ले बैल ले के
ढो रहे हैं अपनी विरासत की कहानी


कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
अपनी पानी वाली लकीरों को
थोपे जा रहे हैं..
कब्रों के सिरहाने
रक्तपात के बीज बोते जा रहे हैं


बीच-बीच में छोड़े जाते हैं
दूधिया कबूतर
और फिर ज़मीन से


साधे जाते हैं निशाने उनपर
इंसानियत के सिपाहियों की दलीलें
दब जाती हैं तोपों की अट्टाहसों में
सरहद के सिपाहियों की गोलियां
कर देती हैं छलनी उन्हें
अपनी-अपनी तरफ के गिद्धों के
वतनपरस्ती के आलापों के बीच




एक भयानक वेदना के बाद
ठंडी पड़ने लगती हैं चीखें
पर उनसे जुड़ें कुछ और चीखें
सालों के सन्नाटों में गूंजती रहती हैं
खुद के कानों के परदे फाड़ती रहती हैं
वीरानियाँ बोती रहती हैं
और ये उत्तराधिकार सुरक्षित रहते हैं..
दीपक मशाल 
(यह कविता परिकथा साहित्यिक पत्रिका में प्रकाशित हो चुकी है)
कभी निगाहें नहीं मिलतीं...


उनसे मेरी आहें नहीं मिलतीं..
मंजिलें तो कभी एक ना थीं..
अब तो अपनी राहें नहीं मिलतीं..
दीपक मशाल 

28 टिप्‍पणियां:

  1. दीपक
    आजकल एक से बढकर एक बेजोड कविता ला रहे हो जिनकी तारीफ़ मे लफ़्ज़ भी कम पड जाएँ।
    दुश्मनी के उत्तराधिकार
    उफ़्…………यही तो विरासत मे मिली है जिसका खामियाज़ा ना जाने कब तक भुगतना होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जाने कब तक चलता रहेगा यह उत्तराधिकार ।
    वर्तमान परिवेश पर एक करारा प्रहार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
    अपनी पानी वाली लकीरों को
    थोपे जा रहे हैं..
    कब्रों के सिरहाने
    रक्तपात के बीज बोते जा रहे हैं


    बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. परिस्थितियों की वेदना दिखती है आपकी इन पंक्तियों में...

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut baar aapke lekhan pe kya comment kiya jaye samajh me nahi aata..aaj kuchh aisaahee hai! Gar likhne lagun to thamna mushkil hoga,isliye khamoshi se lautna behtar...

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूसरी तो दिल हर कर ले गयी। पहली भी प्रभावशाली।

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिय दीपक ,
    विरसे के वैमनष्य / घृणाजीविता की धारणा से चिपटा और उसे ढोता मनुष्य,जिस पर समय के बदलाव का असर नहीं बस उलटे पैरों के प्रेतों सा ! कविता का मूल विचार और उसके लिए चुने गये बिम्ब आकर्षित करते हैं !

    मुझे लगता है कि कविता में 'फ़कीर' और 'सिपाहियों' के साथ नव प्रयोग हुए हैं ! सामान्यत फ़कीर सदभावना और सिपाही कारतूस के साथ जुड़ते रहे हैं पर आपने इन्हें 'रक्तबीज' और 'दलीलों' से जोड़ा तो मेरे लिए यह नव प्रयोग हुआ ! संभव है आजकल बाबागिरी के चर्चित कांड फकीरों को निगेटिव शेड दे गये हों और सिपाहियों को बतौर शांति रक्षक देखा हो आपने !

    बहरहाल स्वचालित बनाम मरगिल्ले और कपोत बनाम तोपों के अट्टहास का अंतर्विरोध खूब उभरा है ! खूबसूरत है !

    उत्तर देंहटाएं
  8. कभी निगाहें नहीं मिलतीं...

    उनसे मेरी आहें नहीं मिलतीं..
    मंजिलें तो कभी एक ना थीं..
    अब तो अपनी राहें नहीं मिलतीं.

    क्या बात है बहुत खूब ..पहली भी बहुत प्रभावशाली है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
    अपनी पानी वाली लकीरों को
    थोपे जा रहे हैं..
    कब्रों के सिरहाने
    रक्तपात के बीज बोते जा रहे हैं..

    दीपक जी आपके शब्द चयन और भावनाओं पर निशब्द हूँ..एक सशक्त अभिव्यक्ति....भावपूर्ण रचना के लिए हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. दीपक बाबू! दूर से आपके वर्त्तमान घर का फोटो देखे थे अऊर नजदीक से केतना बार आपका टिप्पनी देखे हैं..लेकिन बस कभी इधर से निकल गए कभी उधर से.. आज सोचबे किए थे कि चाहे जो हो जाए, मसि कागद को हाथ लगाकर हम भी सरस्वती माई का चरन बंदना करिए लेंगे..बस आ गए… दुस्मनी अऊर नफरत का जो उत्तराधिकार मिला है, इसमें गौर से देखिएगा त बुझाएगा कि केतना दूमुहाँ लोग इसको फैलाया है...
    सियासत नफरतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती
    जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अब तो इस कविता को समझने के लिए मुझे समय चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
    अपनी पानी वाली लकीरों को
    थोपे जा रहे हैं..
    कब्रों के सिरहाने
    रक्तपात के बीज बोते जा रहे हैं ..

    मन की वेदना को दर्शाती अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
    अपनी पानी वाली लकीरों को
    थोपे जा रहे हैं..
    कब्रों के सिरहाने
    रक्तपात के बीज बोते जा रहे हैं


    बीच-बीच में छोड़े जाते हैं
    दूधिया कबूतर
    और फिर ज़मीन से

    सुन्दर गहरे भाव , दीपक जी !

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक एक पंक्ति भाव भरी है
    अब किसका किसका जिक्र करें।
    सर्वांग सुंदर कविता के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक भयानक वेदना के बाद
    ठंडी पड़ने लगती हैं चीखें
    पर उनसे जुड़ें कुछ और चीखें
    सालों के सन्नाटों में गूंजती रहती हैं
    खुद के कानों के परदे फाड़ती रहती हैं
    वीरानियाँ बोती रहती हैं
    और ये उत्तराधिकार सुरक्षित रहते हैं..

    bahoot sachhai byan ki hai aapne

    very nice

    उत्तर देंहटाएं
  17. उनसे मेरी आहें नहीं मिलतीं..
    मंजिलें तो कभी एक ना थीं..
    अब तो अपनी राहें नहीं मिलतीं..

    bahut khoob, janab

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुछ धुएं के फ़कीर फिर भी
    अपनी पानी वाली ....
    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ओह्ह!! कितनी वेदना,आक्रोश और बेबसी है ,इन पंक्तियों में...सारे ही भाव परिलक्षित हो रहें हैं...मन को उद्वेलित कर गयी ये रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  20. ह्रदय को आलोड़ित,उद्वेलित करती गंभीर अतिसुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  21. पर उनसे जुड़ें कुछ और चीखें
    सालों के सन्नाटों में गूंजती रहती हैं
    खुद के कानों के परदे फाड़ती रहती हैं
    वीरानियाँ बोती रहती हैं
    और ये उत्तराधिकार सुरक्षित रहते हैं..
    दीपक मशाल

    -प्रभावशाली अभिव्यक्ति!!


    दूसरी वाली के तो क्या कहने.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बढ़िया स्पष्ट अभिव्यक्ति के साथ प्यारी रचना !

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...