गुरुवार, 26 अगस्त 2010

वो निगहबान हो तो बात बने-------->>>दीपक मशाल

ऐसे ही सरे राह चलते कुछ पंक्तियाँ मन में आगईं तो उन्हें मन में दबाया ना गया.. हिन्दुस्तान के गरीबों का सा हस्र ना किया गया उनका मुझसे.. लेकिन आखिरी पंक्तियाँ समझ नहीं आयीं कि कौन सी बेहतर रहेंगीं इसलिए जो २ शेर टाइप कुछ समझ में आये वो लिख दिए.. अब उन दोनों में से जो बेहतर आपको लगे सुझाने की तकलीफ उठाइएगा उस्ताद...
अगर दोनों में से कोई ठीक ना लगे तो अपनी तरफ से कुछ बनाइये.. उम्मीद है निराश नहीं करेंगे..


वो निगहबान हो तो बात बने
वो मेहरबान हो तो बात बने
कब से खोये हुए हैं मेले में
कोई पहचान हो तो बात बने


आइना तो रोज़ वाह कहता है
वो कदरदान हो तो बात बने


सबके बारे में बुरा कहते हो
खुद के गिरेबान हो तो बात बने


वक्त ने इसबार फिर हराया है
हम पहलवान हो तो बात बने


गम जो दुनिया के रोज़ पीते हो
हम पे अहसान हो तो बात बने


इक तड़पन सी उठी है सीने में(समीर जी)
वो भी हलकान हो तो बात बने


तेरी नज़रों ने मुझको मारा है
पास श्मशान हो तो बात बने(समीर जी)


हिन्दू औ मुसलमाँ खूब हैं मशाल
जो कोई इंसान हो तो बात बने
दीपक मशाल


आदरणीय राजेन्द्र स्वर्णकार भाई साहब ने सच में इसे ग़ज़ल बना दिया.. उनका ह्रदय से आभारी हूँ.. देखिएगा उनके द्वारा तराशे जाने के बाद ग़ज़ल को-



ग़ज़ल
वो निगहबान हो तो बात बने
और… मेहरबान हो तो बात बने

वो तो खोये हुए हैं मेले में
हमसे पहचान हो तो बात बने

आइने ज्यूं ही उनकी नज़रों में 
कुछ मेरी शान हो तो बात बने

उनके लब पर भी देख कर हम को
एक मुसकान हो तो बात बने 

सबको कहते बुरा ; कभी ख़ुद का  
गर गिरेबान  हो तो बात बने

वक़्त को जीतलूं  ;  कोई मुझमें
इक पहलवान हो तो बात बने

पीने वालों ! पियो मेरे भी ग़म
हां, ये अहसान हो तो बात बने

ख़ूब हिन्दू भी हैं , मुसलमां भी
कोई  इंसान  हो  तो  बात  बने

तू  तड़पता  'मशाल' आए दिन / रोज़ाना     
वो भी हल्कान हो तो बात बने
दीपक मशाल 

आज यहाँ बेलफास्ट में हिन्दुस्तान से आये अतिथि कविगण श्री केशरी नाथ त्रिपाठी जी, श्री रामेद्र त्रिपाठी जी, गजेन्द्र सोलंकी जी, महेंद्र अजनबी जी, शशि तिवारी जी और शिवरंजिनी जी शाम को कवि सम्मलेन में समाँ बांधेंगे.. कल उनके साथ कुछ आसपास की खूबसूरत जगहों पर घूमने गया था उन्हीं में से एक दो की तस्वीरें देखिएगा..




32 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया...

    अब कवि सम्मेलन की रिपोर्ट और रिकार्डिंग का इन्तजार रहेगा..


    महेन्द्र अजनबी जी लगे मुझे तस्वीर में...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वो निगहबान हो तो बात बने
    वो मेहरबान हो तो बात बने.
    कब के बिछड़े हुए हैं मेले में
    कोई पहचान हो तो बात बने.
    आईना रोज़ वाह कहता है
    ‘वो’ कदरदान हो तो बात बने.
    सबके बारे में बुरा कहते हो
    ख़ुद को देखो कभी तो बात बने.
    वक़्त ने फिर मुझे हराया है
    हम पहलवान हों तो बात बने.
    ग़म जो दुनिया के रोज़ पीते हो
    हमपे एहसान हो तो बात बने.
    एक उट्ठी है तड़प सीने में (समीर लाल)
    वो भी हलकान हो तो बात बने.
    तेरी नज़रों ने मुझको मारा है (समीर लाल)
    पास शमशान हो तो बात बने.
    हिंदू मुस्लिम में सब बँटे हैं ‘मशाल’
    कोई इंसान हो तो बात बने.

    दो शेर में लफ्ज़ बहर में लाने के लिए बदलने पड़े..सायरी आता नहीं है..कोसिस किए हैं..अच्छा गजल लिखे हैं आप..अऊर फोटो त स्वर्ग मालूम देता है!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. समीर जी ठीक बोल रहे हैं कि महेंद्र अजनबी जी देखाई दे रहे हैं.. ई महेंद्र देहलवी कब से हो गए..पिछला साल इनके सामने हम अपना कबिता पढे थे.. हमरे ऑफिस के समरोह में आए थे..

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं बेवकूफ ही गलत नाम चढ़ा गया लिस्ट में.. आदमी तो वो सही हैं.. शुक्रिया समीर जी और बिहारी बाबू जी.. :)
    सुधार के लिए भी आप दोनों का आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  5. इक तड़पन सी उठी है सीने में(समीर जी)
    वो भी हलकान हो तो बात बने


    दीपक भाई सारा मसला ये है की वो ही तो हलकान नहीं होती..........

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम तो इंतजार कर रहे हैं
    कविता गाई जाएगी पत्‍थरों पर
    इंसानियत उगाई जाएगी पत्‍थरों पर
    हेलमेट पहन कर आयेंगे श्रोतागण
    .....................
    यह पंक्ति पूर्ति अतिथि कवियों सेपूरी करने के लिए विनम्र निवेदन है क्‍योंकि वे तिथि बतलाकर आते हैं, फिर भी अतिथि कहलाये जाते हैं।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छी लगी रचना.........और चित्र तो बढ़िया हैं ही............

    उत्तर देंहटाएं
  8. बात बनेगी भाई, जरूर बनेगी।

    फ़ोटो भी बहुत प्यारे लग रहे हैं।

    अगली रिपोर्ट का इंतज़ार कर रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर रचना और तस्वीरे बहुत मनमोहक हैं. कवि सम्मेलन की रिपोर्टिंग का ईंतजार रहेगा.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या बात है दीपक भाई...आज आपको ढ़ूंढ़ने निकला तो पाया कि छाये हुये हो।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप की रचना 27 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  12. भला सीने में तड़प और श्मशान से समीर जी को क्या लेना देना ? :)

    कविता अच्छी है पर तस्वीरें उससे बेहतर !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन प्रस्तुति , रिपोर्ट का इंतजार है ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया शायरी और चित्र भी बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  15. जितनी खूबसूरत गज़ल उतनी हसीन तश्वीरें...! वाह!

    किसी शायर ने लिखा है...

    तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे
    मैं एक शाम चुरा लूं अगर बुरा न लगे

    इसी तर्ज पर ...
    ये तश्वीरें बड़ी खूबसूरत हैं
    मैं एकाध चुरा लूँ अगर बुरा न लगे...!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बड़ी मस्त रचना लिखी है दीपक ...आनंद आ गया , मनोहारी चित्र आपकी फोटोग्राफी पर पकड़ साफ़ बता रहे हैं ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुक्मल शायरी हो जाये 'मजाल',
    कोई पैगाम हो तो बात बने.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अच्छी प्रस्तुति ... और उससे भी सुंदर और मनमोहक तस्वीरे है .....
    http://oshotheone.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  19. लगता है समीरजी आपके कुछ राज जानते है
    अच्छा है
    पोस्ट अच्छी है
    बात कहीं न कहीं बन जाएगी इसका भरोसा है मुझे

    उत्तर देंहटाएं
  20. tasvir our gajal dono bahut acchhi....bahut pasand aayaa.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आइना तो रोज़ वाह कहता है
    वो कदरदान हो तो बात बने

    bahut sundar dipakji

    उत्तर देंहटाएं
  22. .
    वाह वाह वाह ...क्या बात है !

    दीपक जी बधाई ।
    .

    उत्तर देंहटाएं
  23. @बेचैन आत्मा जी.. अरे सर आप को तस्वीरें अच्छी लगीं मैं इसी में खुश हूँ.. आप को भी इज़ाज़त लेने की जरूरत है क्या??
    आप सबका शुक्रिया स्नेह बनाये रखने के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  24. वो निगहबान हो तो बात बने
    वो मेहरबान हो तो बात बने
    कब से खोये हुए हैं मेले में
    कोई पहचान हो तो बात बने
    Comment is on the original!
    Baat banee yaa nahee?
    Pls visit "bikhare sitare"..just to read a thank you from me to you!

    उत्तर देंहटाएं
  25. कब से खोये हुए हैं मेले में
    कोई पहचान हो तो बात बने

    बहुत ही बढ़िया लिखा है, दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  26. नमस्ते
    १. तुम्हे तो फिल्मो मे होना चाहिए था यंग-मेन!
    २.एक्टिंग का शौक रखते हो,स्टेज पर परफोर्म किया है कभी ?
    क्या कहा ??? 'यस'
    फिर आ जाओ मिल कर स्टेज पर आग लगा देंगें.
    आज भी स्टेज नही छोड़ा मैंने. फ्रोफेश्नलकलाकार नही हूं किन्तु बचपन से आज पचपन तक स्टेज नही छोड़ा.
    ३ ये फोटोज बड़े प्यारे प्यारे हैं इनके नीचे परिचय के रूप मे कुछ लिखते तो बहुत ही अच्छा लगता और पता भी चलता कि ये कहाँ लिए गए और किसके हैं?
    ४. मम्मी-पापा हैं साथ मे? 'उस' फोटो मे.
    ५.गज़ल अच्छी लगी.
    ६.आपको???? नही . तुम्हे और भी पढ़ना चाहूंगी.दम है तुम्हारी कलम मे.
    ६क्मेन्त तभी देती हूं जब ध्यान से पढ़ती हूं उर लिखने के मूड मे होती हूं. यूँही तो कैसे लिख दूँ-'दिल को छू गया'
    हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  27. sachmuch....swarnkar ji ne ghazal ko taraash kar khubsurat kar diya hai ....

    han wo pehlwaan wale sher pe gulzar sab ki ek triveni yaad aa rahi hai ki


    umra ke khel me ik tarfa hai ye rassa kashi
    ik sira mujhko diya hota to koi baat bhi thee

    mujhse tagda bhi hai aur saamne aata bhi nahi ...


    kam aa pata hun deepak bhai ...iske liye muafi... :)

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...