मंगलवार, 27 जुलाई 2010

उस शहर की लडकियां..---------------->>>दीपक 'मशाल'







बड़ा जुझारू शहर है वो 
उसमें रहते हैं साहसी लोग
जो नहीं डरते किसी तकलीफ से
ऐसा नहीं कि वहाँ नहीं आते
दैहिक दैविक और भौतिक ताप

बेशक रामराज्य नहीं वहाँ
पर लोग जिंदादिल हैं

तभी तो उसकी जड़ें नहीं खोखला कर पाता
कोई भी दीमक 
कोई उसकी नींव को 
नोना नहीं लगा पाता 
उसके फौलादी इरादों को 
जंग नहीं लगती कभी

ना बम धमाके रोक पाए उसे बढ़ने से
ना पड़ोसी देशों के घृणित इरादे
ना राम-रहीम के दंगे
ना भाषाई लड़ाईयाँ.. ना वर्गों के बीच के पथराव
ना डिगा सका भूकंप 
ना डेंगू.. ना कोई स्वाइन या बर्ड फ़्लू 
ज़रा थम के अगले ही दिन वो लगता है दौड़ने 
शल्य चिकित्सा के बाद 
रगों में दौड़ते नए लहू की मानिंद  

ये सब सुना-पढ़ा था मैंने उसके बारे में 
कभी अख़बारों कभी टी.व्ही. पे 
करीब से जाना ये सच 
फिर उस शहर में जाके..

सच में लोग चलते रहते हैं 
बिना विचलित हुए
लपटों के बीच से.. शोलों की ज़मीन पर भी
बाढ़ के पानी में भी 

आज उस शहर के जुनून को दुनिया को दिखाने के लिए
मैं ढूँढने निकला था कुछ पात्र
करने एक नायिका की तलाश  
आज ही किसी ने बताया
उस तथाकथित हिम्मती शहर में 
लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं

कई साल पहले शहर की 
एक मंचीय अभिनेत्री 
पड़ गई थी प्रेम में साथी कलाकार के 
तभी से 
वहाँ की लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं
दीपक 'मशाल'
चित्र गूगल से मारा है दोस्तों...

29 टिप्‍पणियां:

  1. Are bhai,wahan kee ladkiyan to khoob natak,nautanki karti hain!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तभी से
    वहाँ की लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं

    संवेदनशील प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब क्या कहूँ……………बेहद शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्दा ...........बेहद उम्दा रचना और प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया रचना उम्दा प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. तभी से
    वहाँ की लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं
    बहुत करीबी रचना. विसंगतियाँ सालती तो हैं ही....

    उत्तर देंहटाएं
  7. शहर कितना भी आलीशान हो कुछ चीजें नहीं बदलती
    वहां की लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं .....
    संवेदनशील लेखन .

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी अभिव्यक्ति तथा सामाजिक बदलाव व समस्याओं को दर्शाती कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. " नाटक में काम करने वाली लड़की "------------(शरद कोकास जी की रचना )
    अब ---"नाटक में काम नहीं करती "-------------(दीपक "मशाल की रचना)

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस कविता के जरिये आपने आदमी की सच्ची दुनिया सामने रखी है, वह सच्ची दुनिया जो भीषण संक्रमण से गुजरती है और फिर भी संभावनाओं की ओर संकेत करती है कि अभी उसे मानवानुरूप और बदलना है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक अच्छी कविता जो सामान्य तरीके से शुरू हो कर फिर अंत मे अपनी गिरहें खोलती है..यथार्थ की भयावहता को बड़े तटस्थ रूप मे मगर ईमानदारी के साथ उघाड़ती कविता...नाटक मे काम करने वाली लड़कियाँ बड़े शहरों मे भी तमाम आदिम आँखों की उत्सुकता का केंद्र होती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन........ हमेशा की तरह................. ये रचना भी कुछ सोचने पर मजबूर करती है ........

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया रचना लगी, दीपक!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपक जी हमेशा की तरह एक बेहतरीन भाव समेटे सुंदर रचना...बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  15. नाटक में तो शादी के बाद लड़के काम करते हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये रचना भी कुछ सोचने पर मजबूर करती है ........

    उत्तर देंहटाएं
  17. कई साल पहले शहर की
    एक मंचीय अभिनेत्री
    पड़ गई थी प्रेम में साथी कलाकार के
    तभी से
    वहाँ की लड़कियां नाटक में काम नहीं करतीं
    ....बेहद उम्दा रचना और प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  18. uss shahar ki duniya sach me lagta hai SACH ke kareeb hai..............hia na!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत भावपूर्ण रचना...



    दिल को छू गयीं....

    उत्तर देंहटाएं
  20. मुझे तो दिलचस्प लगती हैं उस शहर की ही नहीं हर शहर की लडकियाँ।
    --------
    सावन आया, तरह-तरह के साँप ही नहीं पाँच फन वाला नाग भी लाया।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही संवेदनशील कविता....लडकियाँ बड़े शहरों की हो या छोटे शहर की , उनपर लगी पाबंदियां उनके जीवन का दुख एक सा होता है ...बहुत अच्छे से उकेरा है उस दर्द को...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बढ़िया रचना उम्दा प्रस्तुति ...
    वो शहर कौन-सा है?

    उत्तर देंहटाएं
  23. कविता के भाव बहुत बढ़िया हैं ...पर यह शहर कौन सा है? वैसे एक राज़ की बात है :):) हर लड़की ज़िंदगी भर नाटक करती है....और इतना जीवंत कि किसी को एहसास ही नहीं होता ... :):)

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...