मंगलवार, 5 अप्रैल 2011

एक तस्वीर बड़बड़ा रही थी ख्वाब में

मेरे अल्बम से  कुछ पुरानी तस्वीरें
झाँक रहीं थीं सूरज की ओर
उनके धुंधले पड़ते अक्स से
मानो सूरज के थे पुराने रिश्ते

तस्वीरें ढूंढ रहीं थीं 
आशा की किरण मेरे लिए

आग के महाकूप से निकलती लपटें झुलसा देतीं 
खामोश तस्वीरों की उमीदों को
मगर पगली तस्वीरें फिर नयी आस उगा लेतीं
उनके चारों कोने सोख लेते कुछ ऑक्सीजन
वो फिर लग जाती नई कोशिश में

तस्वीरें सपने नहीं देखतीं 
इसलिये कि तस्वीरें कभी नहीं सोतीं

पर आज जाने कैसे आँख लग गई उनकी
रात के तीसरे पहर
एक तस्वीर बड़बड़ा रही थी ख्वाब में
'अब तुम आ गए हो तो...
आशा की किरण का क्या करना'
पता नहीं जाने किसे देखकर
दीपक मशाल
(कविता गर्भनाल में पूर्व प्रकाशित)

20 टिप्‍पणियां:

  1. तस्वीरें सपने नहीं देखतीं
    इसलिये कि तस्वीरें कभी नहीं सोतीं

    सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar rachna hai dipakji, har baar ki tarah uttam prastuti

    हिन्दू नववर्ष एवं चैत्र नवरात्र की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. तस्वीरें स्मृतियों में जकड़ जाती हैं, इसीलिये नहीं सो पाती हैं। बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही उम्दा कविता...वाह!!

    नव-संवत्सर पर हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत दिनों बाद पोस्‍ट पढ़ने को मिली इसके लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. रात के तीसरे पहर
    एक तस्वीर बड़बड़ा रही थी ख्वाब में
    'अब तुम आ गए हो तो...
    आशा की किरण का क्या करना'

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुक्रिया.... इसे पढ़ने का मौका दिया यहाँ पोस्ट कर...अच्छी लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'अब तुम आ गए हो तो...
    आशा की किरण का क्या करना'


    bahut khub...deepak bhai...aapke shabd lajabab!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. तस्वीरें ढूंढ रहीं थीं
    आशा की किरण मेरे लिए..
    बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. 'अब तुम आ गए हो तो...
    आशा की किरण का क्या करना'

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ! जी,
    इस कविता का तो जवाब नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमेशा की तरह एक शानदार सोच का परिचय दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तस्वीरें सपने नहीं देखतीं ...सच है. पर दिखाती जरुर हैं.
    सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. तस्वीरें होती ही ऐसी हैं । किसी को भी उलझा सकती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्मॄतियां जब चित्रावली बन जाती है, तब स्मॄतियां विस्मॄत करने लगती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  16. वह वह ... बहुत ही अच्छा पोस्ट है !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...