सोमवार, 11 अप्रैल 2011

तीन लघुकथाएं---------->>>दीपक मशाल

आप सबके सुझावों से सीख लेते हुए कुछ और लघुकथाएं लिखने की कोशिश की है. लेकिन उन्हें यहाँ नहीं बल्कि सृजनगाथा पर पढ़ा जा सकता है. विश्वास है कि वहां ये तीन लघुकथाएं पढ़कर पुनः अपने स्नेह से सिंचित करेंगे.

'सृजनगाथा' या 'तीन लघुकथाएं' शब्दों पर क्लिक करके वहां पहुंचा जा सकता है अन्यथा नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें---


12 टिप्‍पणियां:

  1. bahut dinon bad aapka blog dekha..........baanchungaa baad me kyonki abhi sone ja raha hoon lekin mera naman zaroor sweekaar kar len

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्छी लगीं कथाऎं मशाल भैया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तीनो लघु कथायें बहुत अच्छी लगी खास कर समूह भोज। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक से बढ़ कर एक...देखा जाए तो इनके प्रकाशन का क्रम भी इनकी गंभीर भाव-संरचना से साथ ही हुआ है..सबसे कम गंभीर सबसे पहले जैसे जैसे भाव का विकास वैसे-वैसे लघुकथा का विकास...
    बहुत सुन्दर
    आशीर्वाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. समूह भोज सबसे अच्छी लगी ।
    मार्मिक ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीनो लघु कथायें बहुत ही बढ़िया है

    उत्तर देंहटाएं
  7. वहा वहा क्या कहे आपके हर शब्द के बारे में जितनी आपकी तारीफ की जाये उतनी कम होगी
    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अपने अपना कीमती वक़्त मेरे लिए निकला इस के लिए आपको बहुत बहुत धन्वाद देना चाहुगा में आपको
    बस शिकायत है तो १ की आप अभी तक मेरे ब्लॉग में सम्लित नहीं हुए और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था
    अब मैं आशा करता हु की आगे मुझे आप शिकायत का मोका नहीं देगे
    आपका मित्र दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...