रविवार, 23 मई 2010

दाग अच्छे हैं(लघुकथा)-------------------------------->>>दीपक 'मशाल'


''निकल बाहर यहाँ से... बदतमीज़ कहीं का..'' बरसाती गंदे पानी से सनी चप्पलें पहिनें कल्लू को अपने घर में अन्दर घुसते देख शोभा आंटी ने अचानक काली रूप धारण कर लिया और उसकी कनपटी पर एक तमाचा जमाते हुए उसे घर से बाहर निकाल दिया.
''रमाबाई तुमसे कितनी बार मना किया है कि अपनी संतानों को यहाँ मत लाया करो.. सारा धुला-पुंछा घर जंगल बना देते हैं..''
आंटी ने अपनी कामवाली बाई को डांटते हुए कहा.
''आगे से नईं लाऊँगी मेमसाब.. मैं लाती नहीं पर क्या करुँ ये छोटा वाला मेरे पीछे-पीछे लगा रहता है..'' अपनी आँख में भर आये पानी को रोकते हुए घर के बाहर खड़े होकर कनपटी सहलाते कल्लू की तरफ देख बेबस रमाबाई बोली. 
रमाबाई ने चुपचाप पोंछा लेकर पायदान के पास बने कल्लू के तीनों पदचिन्हों को मिटा दिया.
थोड़ी देर बाद आंटी का बेटा प्रसून स्कूल बस से निकल कीचड़ में जूते छप-छप करते घर में घुसा तो उसे देख आंटी का वात्सल्य भाव जाग उठा, 
''हाय रे कितना बदमाश हो गया मेरा बच्चा!!!'' और प्रसून को सीने से लगा लिया..
''सॉरी मम्मी फर्श गन्दा हो गया'' प्रसून ने ड्राइंग रूम के बीच में पहुँच कर मासूमियत से कहा 
शोभा आंटी उसकी स्कूलड्रेस उतारते हुए बोलीं, ''कोई बात नहीं बेटा 'दाग अच्छे हैं' है ना??? अभी बाई फर्श साफ़ कर देगी डोंट वरी''
बाहर खड़ा कल्लू गंदे पानी से भीगी अपनी चप्पलें प्रसून के कीचड़ सने जूतों से मिला रहा था. 
दीपक 'मशाल' 
चित्र साभार गूगल से      

35 टिप्‍पणियां:

  1. कितना सच है आपकी कथा में और कितनी झूठ है हमारी ऐसी सोच में ... लाजवाब !
    आप तो trend setter बन गए हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. यथार्थ दर्शन...बहुत बढ़िया कथा.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऎसा हम ने अपनी आंखो से देखा है, बहुत मार्मिक धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. waah Dipak ji kitna kadwa sach rakh diya hamaare saamne...bahut hi maarmik

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर..प्रेरक.
    इधर प्रकाशित हो रही लघुकथाओं ने अत्यधिक प्रभावित किया है.
    अच्छा किख रहे हैं आप.
    ..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. Haiku in prose! Very nice.

    ThanksNOThanks.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ममता का अजब विरोधाभास ...
    अच्छी रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच को दर्शाती सुन्दर लघु कथा

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक सच जो बहुत कड़वा है.....हमारी विचित्र विरोधाभास प्रकृति को बताता है....आँख खोलने वाली लघु कथा

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन का एक और सत्य बताया आपने ................... जो अपना सो भला ........जो पराया सो बुरा....................... भले ही सत्यता कुछ भी हो !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही मार्मिक और सच्चा चित्रण....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आजकल तुम्हारी कहानियां मन उदास कर देती हैं..इतना विरोधाभास है हमारे समाज में और हम भी उसी का हिस्सा हैं..क्या पता जाने-अनजाने हम भी ऐसा कर जाते हों...मन बहुत दुखी हो गया
    वैसे लघु कथाएं बहुत अच्छे लिख रहें हो..

    उत्तर देंहटाएं
  13. मारक,उत्प्रेरक लघुकथा....
    विरोधाभास का सटीक चित्रण किया है आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  14. aaj ka kadva sach
    yah hum aajkal roj dekhate hain,
    yah oonche log, aur khoti inke ander se doosaron ke liye, manviyta

    bahut sateek likha dipakji aapne

    उत्तर देंहटाएं
  15. kya sachmuch esa hota hai ? virodhabhas ka achcha chitran kia hai.

    उत्तर देंहटाएं
  16. होता है जी.. हर जगह होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. यार गजब के आदमी हो। इतनी संवेदना लाते कहां से हो भाई कि आदमी शून्य बटे सन्नाटा हो जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम लोग एक ही स्थिती में दो तरीकों से कैसे पेश आते है इसको इस लघुकथा से बहुत ही अच्छे तरीके से पेश किया है

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुबह पढा था इसे फ़ायरफ़ाक्स मे.. कमेन्ट का बक्सा उसमे गायब हो जाता है इसलिये अच्छी लगने के बावजूद कमेन्ट नही कर पाया..

    वेरी सेन्सिटिव स्टोरी..

    उत्तर देंहटाएं
  20. chhoti chhoti ghatnaon ke maddyam se samajik visangatiyon ki khub padtaal karte ho dost...achhi laghu katha hai ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. कथाओं से लघू कथाएं अच्छी हैं, जैसे फीचर फिल्मों से डाकूमैंट्री फिल्में

    उत्तर देंहटाएं
  22. घृणा………………… यही एक भाव उँचाई पर दिखता है, और उसके नीचे एक बेबसी नज़र आती है…

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बढ़िया रचना। समाज के दोहरे सोच को उजागर करती एक अच्छी लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं
  24. वाकई दिल के अन्दर तक भेद गयी आपकी ये रचना !!!

    मगर सिर्फ शाब्दिक वाहवाही से कुछ नहीं होगा इसके लिए तो ज़िम्मेदार है हमारी वह सामाजिक संस्कृति जो भेदभाव के भाव को पूरी तरह से संरक्षण देती है और मान्यता भी... इसके समूल नाश के लिए अति-आवश्यक है की हमें विश्लेषण करना होगा कि कौन सी ऐसी व्यवस्था है जो इसके निदान में पूरी तरह सक्षम हो !!!

    सलीम ख़ान
    9838659380

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाकई दिल के अन्दर तक भेद गयी आपकी ये रचना !!!

    मगर सिर्फ शाब्दिक वाहवाही से कुछ नहीं होगा इसके लिए तो ज़िम्मेदार है हमारी वह सामाजिक संस्कृति जो भेदभाव के भाव को पूरी तरह से संरक्षण देती है और मान्यता भी... इसके समूल नाश के लिए अति-आवश्यक है की हमें विश्लेषण करना होगा कि कौन सी ऐसी व्यवस्था है जो इसके निदान में पूरी तरह सक्षम हो !!!

    सलीम ख़ान
    9838659380

    उत्तर देंहटाएं
  26. सत्‍य वचन

    पर क्‍या करें

    इसे पढकर भी
    हम वही करेंगे
    कल्‍लू वही मुंह लटकाए घर के बाहर होगा
    और रमाबाई मन ही मन सुबक रही होगी

    वैसे सर्फ एक्‍सेल का ऐड बढिया किया आपने
    :))

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...