शुक्रवार, 4 अप्रैल 2014

अतीत की किरचें

जनसत्ता में पृष्ठ १०, सम्पादकीय के 'दुनिया मेरे आगे' स्तम्भ में 

4 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut dino baad aapke blogpe aayi hun...kharab tabiyat ke laran zyada der baith nahi paati...hameshki tarah sundar lekhan hai aapka...

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब। जितनी बार आपको पढता हूँ उतनी बार अलग अनुभूति होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतिहास संभवतः उन्हें केवल एक लेखक के ही रूप में मूल्यांकित करे।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...