बुधवार, 8 दिसंबर 2010

जाने क्या है ये!!!!------------------------ दीपक 'मशाल'

उसे खुश रहने की दुआ मत दो
बेवफाई की ऐसी सज़ा मत दो
आँख सूजी है और सुर्ख भी है 
झूठे ही मुस्कुरा के विदा मत दो 

निशाँ जिस्म या ज़िहन के रहने दो  
जगह-जगह से इन्हें मिटा मत दो 

रोई है कदील रात भर जिसे सुन के 
वो कहानी पत्थरों को सुना मत दो 

काफी है इतनी शर्म से मर जाने को 
बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो 

किसी दर्द के लिए बचा के रख लो इन्हें   
ज़ालिम के जाने पे अश्क बहा मत दो 

थोड़ा तरस तो खाओ अपनी हालत पे 
'मशाल' ज़ख्मों को और हवा मत दो. 
दीपक 'मशाल'

51 टिप्‍पणियां:

  1. दीपक जी
    नमस्कार !
    थोड़ा तरस तो खाओ अपनी हालत पे
    'मशाल' ज़ख्मों को और हवा मत दो.
    .........बहुत खूब, लाजबाब !
    कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक बेहतरीन अश`आर के साथ पुन: आगमन पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो

    वाह वाह वाह ,कमाल है दीपक जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन भावों को शे’रों मे पिरोए सुंदर ग़ज़ल। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    हिन्दी साहित्य की विधाएं - संस्मरण और यात्रा-वृत्तांत

    उत्तर देंहटाएं
  5. रोई है कदील रात भर जिसे सुन के
    वो कहानी पत्थरों को सुना मत दो

    वाह दीपक भाई, सभी शेर वजनदार हैं

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन अभिव्यक्ति। पढ़कर आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह वा वाह वा !
    क्या बात है दीपक ....वैसे कुछ गंभीर मामला तो नहीं ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. दर्द भरा चेहरा और दर्द भरी गजल? क्‍या बात है दीपक?

    उत्तर देंहटाएं
  9. काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  10. निशाँ जिस्म या ज़िहन के रहने दो
    जगह-जगह से इन्हें मिटा मत दो

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना .... बधाई दीपक जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर रचना , बधाई ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. किसी दर्द के लिए बचा के रख लो इन्हें
    ज़ालिम के जाने पे अश्क बहा मत दो

    Deepak ji.....aaj pahli baar aap ke blog per comment kar raha hun. ek shaandaar gazal ke liye badhaai.... or likhiye....mashaal......ko jalaye rakhiye.

    उत्तर देंहटाएं
  13. काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो

    बहुत खूब ....ग़मगीन सी गज़ल ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. दुबले दुबले से आज जो नज़र आतें हो,
    सबब ग़ज़ल इसका कहीं बता मत दो ! ;)

    लिखते रहिये ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहतरीन अभिव्यक्ति .....भावपूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. रोई है कदील रात भर जिसे सुन के
    वो कहानी पत्थरों को सुना मत दो

    काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो
    क्या खूब शेर निकाले हैं। अच्छी लगी गज़ल। मुझे से वो खुशी सम्भाले नही सम्भल रही--- कब सुनाऊँ सब को? कल की पोस्ट मे लगा दूँ क्या? अब और नही रुका जाता। हा हा हा जब कहोगे तब लगाऊँगी। आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब!...एक एक शब्द आसमा को छूने का अहसास करा है!...वाह, वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  18. थोड़ा तरस तो खाओ अपनी हालत पे
    'मशाल' ज़ख्मों को और हवा मत दो.
    ...gahare dard...bahut badhiya likha hai aapne...aabhaar.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बढ़िया उपदेशात्मक रचना प्रकाशित की है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  20. अरे ये क्या हाल बना रखा है ? कुछ लेते क्यों नहीं ?

    उत्तर देंहटाएं
  21. किसी दर्द के लिए बचा के रख लो इन्हें
    ज़ालिम के जाने पे अश्क बहा मत दो

    ओहो हो ..बड़े दिनों बाद एंट्री मारी और क्या खूब मारी..एकदम फड़कती हुई ग़ज़ल..बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  22. किसी दर्द के लिए बचा के रख लो इन्हें
    बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ....बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. क्या खूब लिखा है……………हर पंक्ति शानदार दिल को छू गयी।

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. किसी दर्द के लिए बचा के रख लो इन्हें
    ज़ालिम के जाने पे अश्क बहा मत दो ..

    वाह बहुत खूब .. इतने दिनों बाद आपको पढ़ा ... लाजवाब शेर कहे हैं सब ..

    उत्तर देंहटाएं
  25. उसे खुश रहने की दुआ मत दो
    बेवफाई की ऐसी सज़ा मत दो.............
    दीपक जी..... वाकई धमाकेदार वापसी है , गहरे जज्बात के साथ सुंदर ग़ज़ल .........

    उत्तर देंहटाएं
  26. ये जख्म किस नामाकूल ने दिए हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  27. काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो
    बहुत लाज़वाब हर एक शेर दिल पर दस्तक दे गया

    उत्तर देंहटाएं
  28. अरे बच्चे यह क्या मजणू जेसी हालत बना रखी हे, उस पर रचना भी लेला लैला पुकार रही हे, बाबा हुआ कया,बोलो तो हम आ जाये... अगर कोई पसंद आ गई हो तो ताऊ चाचा बन कर मांग लायेगे जी, ओर हाथ पीले कर देगे तुम्हारे

    उत्तर देंहटाएं
  29. हर शेर उम्दा और दर्द भरा ! बहुत ही बेहतरीन गज़ल है ! बधाई एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  30. सोचा कि पूछता चलूँ - ये क्या हाल बना रखा है? कुछ लेते क्यों नहीं?
    वैसे बहुत लोग पूछ चुके हैं।

    @
    काफी है इतनी शर्म से मर जाने को
    बेवफा को इससे ज्यादा वफ़ा मत दो

    आह!

    उत्तर देंहटाएं
  31. vaise to likhte hi kamaal ke hai ...........tarif ke liye shabd nahi milte ........is post ke liye to yahi kahate hai wah ustad wah

    उत्तर देंहटाएं
  32. मैं जो कहने वाला था पहले ही बहुत लोगों ने कह दिया.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  33. थोड़ा तरस तो खाओ अपनी हालत पे
    'मशाल' ज़ख्मों को और हवा मत दो.
    waah!sundar lekhan!

    उत्तर देंहटाएं
  34. उसे खुश रहने की दुआ मत दो
    बेवफाई की ऐसी सज़ा मत दो
    आँख सूजी है और सुर्ख भी है
    झूठे ही मुस्कुरा के विदा मत दो
    ...........touching...may have many explanations of these lines as I can feel....

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह वाह दीपक जी.....क्या कहने.....

    उत्तर देंहटाएं
  36. एक आह सी सुलगती है......

    जाए क्या है ये.....

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत लाज़वाब हर एक शेर दिल पर दस्तक दे गया
    lajwaab prastuti (Dipakji).......

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत ही बेहतरीन रचना...मेरा ब्लागःः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे....धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  39. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  40. "इतनी हसरत से तकती है कलियाँ तुम्हें
    क्यों बहारों को फिर से बुलाते नहीं,

    एक दुनिया उजड़ गई है तो क्या
    दूसरा तुम जहाँ क्यों बसाते नहीं?,

    दिल ने चाहा भी तो ले संसार के
    चलना पड़ता है सबकी ख़ुशी के लिए ...."

    उत्तर देंहटाएं
  41. निशाँ जिस्म या ज़िहन के रहने दो
    जगह-जगह से इन्हें मिटा मत दो
    लाज़वाब हर शेर.......

    उत्तर देंहटाएं
  42. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...